मंगलवार, 2 जून 2020

इंडिगो को चौथी तिमाही में 871 करोड़ रुपये का नुकसान


नई दिल्ली। कोविड-19 के कारण उड़ानों पर प्रतिबंध की वजह से देश की सबसे बड़ी विमान सेवा कंपनी इंडिगो को 31 मार्च को समाप्त पिछले वित्त वर्ष की चौथी तिमाही में 870.81 करोड़ रुपये का शुद्ध नुकसान हुआ है। एयरलाइन के निदेशक मंडल की आज हुई बैठक में वित्तीय परिणामों को मंजूरी प्रदान की गयी। अंतिम तिमाही में हुये घाटे के कारण पूरे वित्त वर्ष 2019-20 के दौरान कंपनी को 233.68 करोड़ रुपये का नुकसान उठाना पड़ा है। उल्लेखनीय है कि कोरोना वायरस के कारण पिछले साल फरवरी से ही कई मार्गों पर अंतर्राष्ट्रीय उड़ानों पर प्रतिबंध लगने शुरू हो गये थे और 25 मार्च से देश में यात्री उड़ानों पर पूरी तरह प्रतिबंध लग गया था। एक साल पहले की तुलना में एयरलाइन का कुल राजस्व 16.41 प्रतिशत घटकर 8,634.62 करोड़ रुपये रह गया जबकि कुल लागत 1.54 प्रतिशत बढ़कर 9,9243.93 करोड़ रुपये पर पहुँच गया। इस कारण कंपनी को नुकसान उठाना पड़ा। हालाँकि उड़ानों पर प्रतिबंध से विमान ईंधन के मद में उसकी लागत 3,341.94 करोड़ रुपये से घटकर 2,860.36 करोड़ रुपये रह गयी।
इंडिगो के मुख्य कार्यकारी अधिकारी रोनोजॉय दत्त ने परिणामों पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुये विश्वास जताया कि इस संकट से उबर कर कंपनी दुबारा मजबूत होगी। उन्होंने कहा "हर संकट के बीच अवसर भी होता है। हम इस संकट से और मजबूत बनकर उभरने के लिए प्रतिबद्ध हैं। हम अधिक दक्ष बेड़ा बनाने और कम लागत का ढाँचा विकसित करने की ओर बढ़ रहे हैं।"

0 comments:

टिप्पणी पोस्ट करें

Top Ad 728x90