छत्तीसगढ़

शुक्रवार, 10 जुलाई 2020

आने वाले समय में छत्तीसगढ़ के हर गांव में होगा एक इंडस्ट्रियल पार्क : भूपेश बघेल

by



  • गांव के गौठान की एक एकड़ भूमि ग्रामोद्योग गतिविधियों के लिए रहेगी आरक्षित
  • मुख्यमंत्री शामिल हुए ’रिस्टार्ट छत्तीसगढ़ ऑफ्टर लॉकडाउन’ ई-कॉन्क्लेव में

रायपुर । मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने कहा है कि आने वाले समय में छत्तीसगढ़ के हर गांव में एक इंडस्ट्रियल पार्क होगा। उन्होंने कहा कि गांव में गौठानें के लिए आरक्षित की गयी जमीन में से एक एकड़ जमीन कुटीर और छोटे उद्योगों के लिए आरक्षित रहेगी, जहां स्व-सहायता महिला समूह द्वारा लघु वनोपजों में वेल्यूएडीशन का कार्य किया जाएगा। मुख्यमंत्री ने आज एक इलेक्ट्रॉनिक समाचार चैनल हिन्दी खबर द्वारा आयोजित ई-कॉन्क्लेव के समापन अवसर पर यह बात कही। श्री भूपेश बघेल ’रिस्टार्ट छत्तीसगढ़ ऑफ्टर लॉकडाउन’ विषय पर आयोजित इस कॉन्क्लेव में रायपुर स्थित अपने निवास कार्यालय से वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए शामिल हुए। श्री बघेल ने कहा कि गोधन न्याय योजना प्रदेश में 20 जुलाई को हरेली त्यौहार से शुरू की जा रही है। इस योजना में पशु-पालकों से गोबर खरीदकर गौठानों में वर्मी कम्पोस्ट तैयार की जाएगी। छत्तीसगढ़ देश का पहला राज्य है, जहां गोबर की खरीदी की जाएगी। उन्होंने गांधी जी की 150वीं वर्षगांठ के अवसर पर शुरू की गई सुराजी गांव योजना की विस्तार से जानकारी देते हुए कहा कि यह योजना छत्तीसगढ़ की ग्रामीण अर्थव्यवस्था का एक मजबूत आधार स्तंभ साबित होगी। इस योजना के माध्यम से राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के ग्राम स्वराज की कल्पना साकार होगी।
मुख्यमंत्री ने कार्यक्रम में कोरोना से लड़ने का संकल्प दोहराते हुए कहा कि महामारी संकट के इस दौर में सबके लिए रोजगार के अवसर ढूढना है। यदि हिन्दुस्तान का पुर्ननिर्माण करना है, तो सबको विश्वास में लेकर कोई ऐसा काम शुरू करना होगा, जिससे सबको रोजगार मिले और सब सुखी और सम्पन्न हों। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार की प्राथमिकता अधिक से अधिक लोगों को रोजगार से जोड़ने की है। श्री बघेल ने कॉन्क्लेव में कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए राज्य सरकार द्वारा उठाए गए कदमों, लॉकडाउन के दौरान जरूरी आर्थिक गतिविधियों को जारी रखने के प्रयासों, कठिन समय में जरूरतमंद लोगों को राहत प्रदान करने के किए गए उपायों और छत्तीसगढ़ के वर्तमान आर्थिक परिवेश के बारे में विस्तार से अपने विचार रखे। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार प्रदेश में लोकल टूरिज्म को बढ़ावा देने के प्रयास कर रही है। रामवन गमन पथ को विकसित करने के लिए राशि का प्रावधान करते हुए कार्य प्रारंभ कर दिया गया है। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ में अनेक सुरम्य प्राकृतिक स्थलों के साथ ऐतिहासिक धरोहरेें है। यहां पर्यटकों के लिए सुविधा विकसित कर पर्यटन को बढ़ावा देने की दिशा में काम किया जा रहा है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि लॉकडाउन के दौरान भी छत्तीसगढ़ में जरूरी आर्थिक गतिविधियों को चालू रखा गया। प्रदेश के बड़े उद्योग कम क्षमता के साथ संचालित होते रहे। खदानें बंद नहीं हुई। मनरेगा के काम बड़े पैमाने पर प्रारंभ किए गए, जिनमें अधिकतम 26 लाख लोगों को काम मिला। लॉकडाउन के दौरान राजीव गांधी किसान न्याय योजना की प्रथम किश्त की राशि के रूप में पन्द्रह सौ करोड़ रूपए किसानों के खाते में अंतरित की गयी। लघु वनोपजों के संग्रहण का काम भी चलता रहा। लोगों की जेब में इन माध्यमों से पैसा आया, जिससे लॉकडाउन में भी उद्योग, व्यापार और व्यवसाय फले-फूले। लॉकडाउन के दौरान प्रदेश में तीन हजार से अधिक ट्रेक्टरों की बिक्री हुई। पिछले वर्ष की जून माह तुलना में इस वर्ष जून माह में जीएसटी कलेक्शन में 22 प्रतिशत की ग्रोथ हुई। रियल स्टेट सेक्टर को गति देने के लिए जमीनों की खरीदी-बिक्री की कलेक्टर गाईड लाईन दरों में 30 प्रतिशत छूट दी गयी है। पंजीयन शुल्क भी कम किया गया। पिछले वर्ष की तुलना में इस वर्ष अधिक रजिस्ट्री हुई है।
कोरोना संक्रमण की रोकथाम और बचाव के उपायों के संबंध में मुख्यमंत्री ने बताया कि विदेशों से आने वाले लोगों की पहचान कर उन्हें होम क्वारेंटाइन में रखा गया। लॉकडाउन के दौरान लगभग साढ़े छह लाख मजदूर और अन्य लोग छत्तीसगढ़ लौंटे, जिन्हें राज्य में बनाए गए 21 हजार क्वारेटाइन सेन्ट्ररों में रखा गया। अब इनमें से अधिकांश लोग अपने-अपने घर लौट चुके हैं। कोरोना संक्रमित पाए गए लोगों के भी जांच और इलाज के प्रबंध किए गए, जिससे कोरोना संक्रमण की स्थिति राज्य में नियंत्रण में रही। लॉकडाउन के दौरान मुख्यमंत्री सुपोषण अभियान को भी जारी रखा गया। इसके परिणाम स्वरूप कुपोषित बच्चों की संख्या में 13 प्रतिशत की कमी आयी।

डीएमएफ की राशि स्थानीय लोगों की बेहतरी के लिए उपयोग किया जाए: डॉ. डहरिया

by

  • नगरीय प्रशासन मंत्री की अध्यक्षता में डीएमएफ की शासी परिषद की बैठक

रायपुर । नगरीय प्रशासन और कोरिया जिले के प्रभारी मंत्री डॉ. शिवकुमार डहरिया की अध्यक्षता में जिला खनिज संस्थान न्यास की शासी परिषद की बैठक संपन्न हुई। बैठक कोरिया कलेक्टोरेट सभाकक्ष में आयोजित हुई। बैठक में डीएमएफ के तहत स्वीकृत कार्यों की प्रगति की विस्तारपूर्वक जानकारी लेते हुए डॉ. डहरिया ने डीएमएफ की राशि का उपयोग स्थानीय लोगों की बेहतरी के लिए करने के निर्देश दिए।
डॉ. डहरिया ने कहा कि शासन द्वारा निर्धारित गाईड लाईन के अनुसार ही डीएमएफ की राशि खर्च की जाए। उन्होंने नवीन संशोधन के संबंध में कहा कि डीएमएफ की 60 प्रतिशत की राशि उच्च प्राथमिकता के क्षेत्रों में, 40 प्रतिशत की राशि मे से भौतिक अधोसंरचना के कार्याें में 20 प्रतिशत और शेष 20 प्रतिशत राशि सिंचाई विकास, ऊर्जा, जल विभाजक, सार्वजनिक परिवहन, सांस्कृतिक मूल्यों का संरक्षण, युवा गतिविधियों सहित विभिन्न कार्याें के लिए व्यय किए जाने का प्रावधान किया गया है।
प्रभारी मंत्री ने जिला खनिज संस्थान न्यास के स्वीकृत कार्याें और मुख्यमंत्री फ्लैगशिप योजना के अंतर्गत नरवा, गरूवा, घुरवा एवं बाड़ी, मुख्यमंत्री हाट बाजार क्लीनिक योजना, मुख्यमंत्री शहरी स्लम स्वास्थ्य योजना, सुपोषण योजना एवं वार्ड कार्यालय योजना के क्रियान्वयन की समीक्षा की और आवश्यक दिशा-निर्देश दिए। उन्होंने जल संसाधन विभाग द्वारा किये जा रहे कार्यों की जांच पीडब्लूडी एवं आरईएस विभाग के टीम बनाकर करने तथा 15 दिवस में रिपोर्ट प्रस्तुत करने कहा। उन्होंने कहा कि नगरीय निकायों में हितग्राहियों को पेंशन की राशि नियमित रूप से दिया जाना सुनिश्चित किया जाए।
बैठक में वीडियो कान्फ्रेंस के माध्यम से लोकसभा सांसद श्रीमती ज्योत्सना महंत भी शामिल हुई। बैठक में सरगुजा क्षेत्र आदिवासी विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष एवं भरतपुर-सोनहत क्षेत्र के विधायक श्री गुलाब कमरो, बैकुण्ठपुर क्षेत्र की विधायक श्रीमती अम्बिका सिंहदेव, मनेन्द्रगढ़ क्षेत्र के विधायक डॉ. विनय जायसवाल, कलेक्टर श्री सत्य नारायण राठौर, पुलिस अधीक्षक श्री चन्द्रमोहन सिंह सहित अन्य संबंधित वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

उद्योग मंत्री कवासी लखमा ने क्रिएटिव हाल का किया लोकार्पण, महिलाओं को स्वालंबन की राह पकड़ने पर दी बधाई

by


रायपुर। वाणिज्य एवं उद्योग तथा धमतरी जिले के प्रभारी मंत्री श्री कवासी लखमा ने आज ग्राम छाती पहुंच कर मल्टी युटिलिटी सेंटर में क्रिएटिव हाल का लोकार्पण किया। उन्होंने यहां महिला स्व-सहायता समूहों द्वारा बांस, गोबर, सहित क्रोशिया के आकर्षण व रंग-बिरंगें धागों से तैयार राखियां, ज्वेलरी सेट, लेमनग्रास टी उत्पाद तथा बांस सेे तैयार ट्री गार्ड का अवलोकन किया। इस दौरान श्री कवासी लखमा धमतरी जिले के ग्राम छाती में स्व-सहायता समूह की महिलाओं के कार्यों को देखकर काफी प्रभावित हुए। उन्होंने समूह की महिलाओं द्वारा उत्पादित वस्तुओं को खरीदकर उन्हें प्रोत्साहित भी किया। प्रभारी मंत्री श्री लखमा ने स्व-सहायता समूह की महिलाओं को शुभकामनाएं देते हुए कहा कि वे न सिर्फ आर्थिक रूप से सक्षम व आत्मनिर्भर हो रही है, बल्कि स्वरोजगार सृजित कर स्वावलंबी भी हो रही है।

प्रभारी मंत्री ने समूह की महिलाओं द्वारा प्रशासन के सहयोग से तैयार की गई वस्तुओं के बेहतर विपणन के लिए कलेक्टरएवं जिला पंचायत की सी.ई.ओ. को निर्देश दिए। इस अवसर पर महापौर श्री विजय देवांगन, जिला पंचायत के उपाध्यक्ष श्री नीशु चंद्राकर, वरिष्ठ नागरिक श्री भारद लोहाणा, श्री मोहन लालवानी सहित विभिन्न विभागों के अधिकारी, समूह की महिलाएं व स्थानीय जनप्रतिनिधिगण उपस्थित थे।

राज्य स्तरीय बैंकर्स समिति की बैठक, गोधन न्याय योजना को बैंकर्स ने ग्रामीण अर्थव्यवस्था एवं किसानों के लिए महत्वपूर्ण बताया

by


रायपुर। राज्य स्तरीय बैंकर्स समिति की बैठक आज यहां मंत्रालय महानदी भवन में वित्त विभाग के अपर मुख्य सचिव श्री अमिताभ जैन की अध्यक्षता में सम्पन्न हुई। बैठक में केन्द्र एवं राज्य शासन की योजनाओं के अंतर्गत विभिन्न बैंको को दिए लक्ष्यों की प्रगति, छत्तीसगढ़ में कार्यरत बैंकों की वित्तीय एवं बैंकिंग क्षेत्र में की गई प्रगति तथा बैंकर्स समिति की पिछली बैठकों की एक्शन टेकन रिर्पोट पर की गई कार्यवाही की भी समीक्षा की गई। राज्य स्तरीय बैंकर्स समिति में ग्रामीण विकास विभाग के प्रमुख सचिव श्री गौरव द्विवेदी तथा उद्योग विभाग के प्रमुख सचिव श्री मनोज पिंगुवा शामिल हुए। बैठक में नाबार्ड तथा भारतीय स्टेट बैंक सहित अन्य बैंकों के प्रमुख अधिकारी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए शामिल हुए।
राज्य स्तरीय बैंकर्स समिति की बैठक में अपर मुख्य सचिव श्री अमिताभ जैन ने राज्य के नक्सल प्रभावित (एल.डब्ल्यू.ई.) जिले बीजापुर, सुकमा, बस्तर, दंतेवाड़ा, कांकेर, नारायणपुर, राजनांदगांव एवं कोण्डागांव में बैंकिंग एवं वित्तीय सुविधाओं की प्रगति की समीक्षा की। बैठक में राज्य स्तरीय बैंकर्स समिति के संयोजक श्री परविंदर भारती ने बताया कि नक्सल प्रभावित जिलों में विभिन्न बैंकों की 140 शाखाएं एवं ए.टी.एम. की शुरू कर दिए गए है। उन्होंने बताया कि इन क्षेत्रों में अभी दस बैंकों की शाखाएं खोली जाना है। अपर मुख्य सचिव ने बैंकर्स को निर्देश दिए कि जहां-जहां बैंक शाखाएं खोली गई है। उन स्थानों की जानकारी ग्रामीण हितग्राहियों को होना आवश्यक है इसके लिए पंचायतों के माध्यम से बैंकों की जानकारी दिया जाना सुनिश्चित करें। बैठक में बैंकर्स को निर्देश दिए गए कि राज्य के जिन क्षेत्रों में बैंकिंग सुविधाएं उपलब्ध कराने का लक्ष्य दिया गया है वहां शीघ्र ही बैंक शाखाएं खोली जाए। बैठक में शासकीय योजनाओं के अंतर्गत वर्ष 2019-20 के वार्षिक क्रेडिट प्लान की प्रगति की समीक्षा की गई।

बैठक में बताया गया कि राज्य में वाणिज्य, सहकारी एवं अन्य बैंकों द्वारा 31 मार्च 2020 तक 28 हजार 229 करोड़ रूपए से ज्यादा का साख सीमा अर्जित की गयी। जो उनके लक्ष्य का 76.90 प्रतिशत है। इसी तरह से राज्य में कार्यरत वाणिज्य एवं सहकारी बैंक द्वारा कुल 16 लाख 95 हजार 916 के.सी.सी. कार्ड के माध्यम से किसानों को 13 हजार 134 करोड़ रूपए का ऋण उपलब्ध कराया गया। बैंकों द्वारा प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा, प्रधानमंत्री जीवन ज्योति तथा अटल पेंशन योजना के तहत 61 लाख 89 हजार लोगों को लाभान्वित किया गया है। इसी तरह से राज्य में विभिन्न हाऊसिंग योजनाओं के तहत कुल 25064 प्रकरणों में 4481.41 करोड़ रूपए के ऋण स्वीकृत किए गए है। बैंकर्स समिति की बैठक में विभिन्न बैंकर्स द्वारा राज्य शासन की अभिनव गोधन न्याय योजना को बैंकर्स ने ग्रामीण अर्थव्यवस्था एवं किसानों के लिए महत्वपूर्ण बताया। बैंकर्स ने बैठक में राज्य बैंकर्स समिति के संयोजक श्री परविंदर भारती ने कहा कि राज्य शासन की नरवा, घुरवा, गरवा और बाड़ी सहित अन्य योजनाओं के लिए हर संभव कार्य करेंगे। श्री भारती ने बताया कि कोविड-19 के संकट में बैंकों द्वारा सामाजिक दायित्व निभाया गया है। उन्होंने बताया कि बैंकों द्वारा चिकित्सा उपकरण, पीपीई किट, मॉस्क सहित अन्य चिकित्सा उपकरण शासकीय अस्पतालों को उपलब्ध कराए गए है। बैठक में छत्तीसगढ़ में कार्यरत सभी वाणिज्यिक एवं सहकारी बैंकों के प्रतिनिधि तथा विभिन्न विभागों के अधिकारी शामिल हुए।

रणवीर-कैटरीना को लेकर फिल्म बनायेंगी जोया अख्तर

by

मुंबई। बॉलीवुड अभिनेता रणवीर सिंह और कैटरीना कैफ की जोड़ी सिल्वर स्क्रीन पर साथ नजर आ सकती है। बॉलीवुड में चर्चा है कि 'गल्ली बॉय की निर्देशक जोया अख्तर एक फिल्म बनाने जा रही हैं। यह फिल्म हॉलीवुड की ऑस्कर विनिंग फिल्म 'द डिपार्टेड पर आधारित क्राइम ड्रामा होगी। हालांकि यह फिल्म 'द डिपार्टेड का रीमेक नहीं होगी क्योंकि जोया इस कहानी में बदलाव लाना चाहती हैं। जोया ने कॉपी राइट्स भी खरीदे हैं। बॉलीवुड में चर्चा है कि जोया ने फिल्म के लिये रणवीर सिंह को कास्ट किया है। इस रोल के लिए रणवीर ने हामी भर दी है। फिल्म में रणवीर के अपोजिट कैटरीना कैफ को लिया जा सकता है। यदि कैटरीना भी प्रस्ताव स्वीकार करती हैं तो रणवीर और कैटरीना पहली बार बड़े परदे पर एक साथ नजर आएंगे।

ऋतिक ने कृष 4 के लिये शाहरुख से मिलाया हाथ

by

मुंबई। बॉलीवुड के माचो मैन ऋतिक रोशन ने अपनी आने वाली फिल्म 'कृष 4Ó के लिये शाहरुख खान से हाथ मिलाया है। ऋतिक रौशन फिल्म वॉर के बाद अपनी आने वाली फिल्म की तैयारी कर रहे हैं। चर्चा है कि ऋतिक की अगली फिल्म कृष 4 हो सकती है, जिसकी तैयारी बड़े जोर-शोर से चल रही है। इस फिल्म के निर्माता-निर्देशक इसके प्री-प्रोडक्शन में जी जान से जुटे हैं और इन दिनों स्क्रिप्टिंग पर काफी काम चल रहा है। चर्चा है कि फिल्म कृष 4 के लिए ऋतिक ने शाहरुख से भी हाथ मिलाया है। कहा जा रहा है कि ऋतिक की इस फिल्म के ग्राफिक्स और विजुअल इफेक्ट की जिम्मेदारी शाहरुख की कंपनी रेड चिलीज एंटरटेनमेंट को दी गई है। माना जा रहा है कि फिल्म में इस बार ऋतिक बनाम कई सुपर विलेन के बीच की जंग होगी। ऐसे में यह साफ है कि इन सुपर विलेन को बनाने की जिम्मेदारी शाहरुख खान को दी गई है। कहा जा रहा है कि इस बार 'कृष 4Ó में जादू की भी वापसी होने जा रही है।
गौरतलब है कि वर्ष 2003 में प्रदर्शित फिल्म 'कोई मिल गयाÓ में जादू (एलियन) की एक अहम भूमिका थी, जो बच्चों के बीच काफी पॉपुलर भी हुआ था।

पहले टेस्ट में सोशल डिस्टेंसिंग का नहीं हो रहा है पालन

by

साउथम्पटन। इंग्लैंड और वेस्ट इंडीज के बीच यहां चल रहे पहले क्रिकेट टेस्ट में सोशल डिस्टेंसिंग का कतई पालन नहीं हो रहा है। कोरोना के कारण 117 दिन के लम्बे अंतराल के बाद इस मैच से अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट की वापसी हुई है। यह मैच कई नए नियमों के तहत खेला जा रहा है जो अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) ने कोरोना के कारण लागू किये हैं जिसमें दर्शकों का स्टेडियम में नहीं होना, गेंद पर मुंह की लार का इस्तेमाल नहीं करना और खिलाडिय़ों के बीच सोशल डिस्टेंसिंग बनाये रखना शामिल है।
पहले टेस्ट के दूसरे दिन गुरूवार को यह देखा गया कि खिलाडिय़ों ने सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं किया। इंग्लैंड की पहली पारी 204 रन पर सिमटी। इंग्लैंड की पारी के दौरान विंडीज टीम के कप्तान जैसन होल्डर ने जब भी डीआरएस का इस्तेमाल किया गया, विंडीज के खिलाड़ी एक साथ खड़े नजर आये, हाई फाइव करते रहे और एक-दूसरे की पीठ थपथपाते रहे जबकि आईसीसी ने कोरोना को लेकर अपने दिशा निर्देशों में कहा था कि खिलाड़ी और अम्पायर हर समय सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें। आईसीसी ने अपने दिशा निर्देशों में कहा था कि खिलाड़ी और अम्पायर क्रिकेट मैदान पर सोशल डिस्टेंसिंग बनाये रखें जिसमें खिलाड़ी ट्रेनिंग के दौरान भी आपस में डेढ़ मीटर का फासला बनाये रखें या फिर वह दूरी जो उस देश की सरकार ने लागू कर रखी है। आईसीसी ने यह भी कहा था कि मैदान में किसी तरह का जश्न नहीं होना चाहिए जिसमें शारीरिक संपर्क आता हो लेकिन इन दिशा निर्देशों का पूरी तरह उल्लंघन हुआ और इस पर मैदानी अम्पायरों ने भी कोई ध्यान नहीं दिया।
होल्डर ने जब भी डीआरएस लिया, खिलाड़ी एक-दूसरे के आसपास आकर खड़े हो गए और एक-दूसरे की पीठ थपथपाते रहे। विकेट गिरने का जश्न भी खिलाडिय़ों ने एक-दूसरे के पास आकर और हाई फाइव कर मनाया। इस दौरान मैदानी अम्पायरों ने कोई आपत्ति नहीं जताई। उल्लेखनीय है कि विश्व के नंबर एक टेनिस खिलाड़ी सर्बिया के नोवाक जोकोविच के एड्रिया टूर में भी खिलाडिय़ों ने सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं हुआ था जिसका नतीजा यह था कि जोकोविच सहित चार खिलाड़ी और दो कोच कोरोना पॉजिटिव हो गए थे और दूसरे चरण के फाइनल तथा शेष दो चरणों को रद्द करना पड़ा था। पहले दो चरणों में खिलाड़ी नेट के पास आकर हाथ मिला रहे थे, एक-दूसरे की पीठ थपथपा रहे थे और साथ खड़े होकर फोटो खिंचवा रहे थे। इसे लेकर जोकोविच की आलोचना की गयी थी।
यूरोप में फुटबॉल की जो वापसी हुई है उसमें भी सोशल डिस्टेंसिंग का कोई पालन नहीं किया गया और गोल होने के बाद खिलाडिय़ों ने आपस में इसका जश्न मनाया। यही स्थिति क्रिकेट मैदान में भी दिखाई दे रही है जहां खिलाड़ी सोशल डिस्टेंसिंग का कोई पालन नहीं कर रहे हैं। आईसीसी को इस पर ध्यान देना होगा कि खिलाड़ी कोरोना को लेकर उसके बनाये नियमों का पालन करें।

71 वर्ष के हुए सुनील गावस्कर, क्रिकेट जगत ने दी बधाई

by

नई दिल्ली। क्रिकेट के सर्वश्रेष्ठ सलामी बल्लेबाज और पूर्व भारतीय कप्तान सुनील गावस्कर शुक्रवार को 71 वर्ष के हो गए और उनके जन्मदिन पर आईसीसी, बीसीसीआई और लीजेंड सचिन तेंदुलकर समेत क्रिकेट जगत ने बधाई दी है। लिटिल मास्टर के नाम से मशहूर गावस्कर के जन्मदिन पर अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) ने बधाई देते हुए ट्विटर पर लिखा, "टेस्ट में 10 हजार रन बनाने वाले पहले बल्लेबाज। तीन बार टेस्ट की दोनों पारियों में शतक लगाने वाले पहले बल्लेबाज। 2005 तक उनके नाम टेस्ट में सबसे ज्यादा शतक थे। टेस्ट में 100 कैच लपकने वाले पहले भारतीय फील्डर। महान क्रिकेटर सुनील गावस्कर को जन्मदिन की बधाई। भारतीय क्रिकेट कट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) ने ट्विटर पर उनकी तस्वीर पोस्ट करते हुए लिखा, "टेस्ट क्रिकेट में 10 हजार रन बनाने वाले पहले बल्लेबाज। पर्दापण टेस्ट सीरीज में सबसे ज्यादा रन (774) बनाने वाले क्रिकेटर। टीम इंडिया के पूर्व कप्तान और महान बल्लेबाज सुनील गावस्कर को जन्मदिन की बधाई।
विश्व रिकॉर्डधारी सचिन तेंदुलकर ने गावस्कर के जन्मदिन पर उनके साथ की एक फोटो साझा करते हुए लिखा, "मैं अपने प्रेरणास्त्रोत गावस्कर से पहली बार 1987 में मिला था। तब मैं 13 वर्ष का था और मुझे भरोसा नहीं हो रहा था कि मैं उस व्यक्ति से मिल रहा था जिसे देखकर मैं बड़ा हुआ और जिसका अनुकरण करना चाहता था। वो भी क्या दिन थे। आपको 71 वें जन्मदिन की बहुत बहुत शुभकामनाएं सर। आप स्वस्थ और सुरक्षित रहे।
पूर्व क्रिकेटर वीवीएस लक्ष्मण ने लिखा, "दिग्गज सुनील गावस्कर सर को जन्मदिन की ढेर सारी बधाई। वर्षों से मुझे प्रेरित करने के लिए धन्यवाद और पिछले कुछ वर्षों में कमेंट्री बॉक्स में आपके साथ समय बिताने का एक सुखद अनुभव रहा है। आपका आने वाला वर्ष मंगलमय हो। विश्वकप 1983 विजेता टीम के सदस्य मदन लाल ने लिखा, "दुनिया के सबसे अच्छे सलामी बल्लेबाजों को जन्मदिन की शुभकामनाएं। सनी भाई आपके जीवन में खुशियां बनी रहें और आपके अच्छे स्वास्थ्य की शुभकामनाएं, आपका दिन शानदार हो। पूर्व क्रिकेटर मोहम्मद कैफ ने लिखा, "जन्मदिन की ढेर सारी शुभकामनाएं, सनी भाई। बिना हेलमेट के बल्लेबाजी करने के आपके किस्से सुनकर बड़ा हुआ हूं। अब उनको व्यक्तिगत रूप से जानना मेरे लिये सौभाग्य की बात है और वह कहानियां खुद उस इंसान से सुनने को मिल रही है। वेस्टइंडीज हमेशा से उनके घरेलू मैदान जैसा रहा। भारतीय क्रिकेटर अजिंक्या रहाणे ने लिखा, "सुनील गावस्कर सर को जन्मदिन की बहुत बहुत बधाई। उन्हें जीवन में अपार खुशियां मिले।
भारतीय टीम के 'चाइनामैन गेंदबाजÓ कुलदीप यादव ने लिखा, "दिग्गज सुनील गावस्कर सर को जन्मदिन की बधाई। आपने एक पीढ़ी को खेलों के लिए प्रेरित किया है। आपके अच्छे स्वास्थ्य की कामना करते हैं।

रुपया 21 पैसे लुढ़का

by

मुंबई। वैश्विक स्तर पर दुनिया की प्रमुख मुद्राओं की तुलना में डॉलर में रही मजबूती और घरेलू स्तर पर शेयर बाजार में हुयी बिकवाली के दबाव में शुक्रवार को अंतरबैंकिंग मुद्रा बाजार में रुपया 21 पैसे फिसलकर 75.20 रुपये प्रति डॉलर पर रहा। पिछले सत्र में रुपया 74.99 रुपये प्रति डॉलर पर रहा था। रुपया आज 17 पैसे की गिरावट लेकर 75.16 रुपये प्रति डॉलर पर खुला। शुरूआती कारोबार में ही यह 75.12 रुपये प्रति डॉलर के उच्चतम स्तर तक चढ़ा और इसके बाद बने दबाव में यह 75.33 रुपये प्रति डॉलर के निचले स्तर तक फिसला। अंत में यह पिछले दिवस की तुलना में 21 पैसे गिरकर 75.20 रुपये प्रति डॉलर पर रहा।

शेयर बाजार गिरावट में, सेंसेक्स 143 अंक फिसला

by

मुंबई। वैश्विक बाजारों के मिश्रित संकेतों के बीच घरेलू स्तर पर कोरोना वायरस पीडि़तों की संख्या में हो रही बढोतरी के कारण देश के कई जिलों में हो रहे लॉकडाउन के दबाव में शुक्रवार को शेयर बाजार में फिर से बिकवाली हुयी जिससे बीएसई का सेंसेक्स 143.36 अंक और एनएसई का निफ्टी 45.40 अंक टूट गया। बीएसई का 30 शेयरों वाला संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 143.36 अंक गिरकर 36594.33 अंक पर और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) का निफ्टी 45.40 अंक टूटकर 10768.05 अंक पर रहा। इस दौरान छोटी और मझौली कंपनियों में भी बिकवाली हुयी जिससे बीएसई का मिडकैप 0.72 प्रतिशत उतरकर 13396.83 अंक पर और स्मॉलकैप 0.35 प्रतिशत गिरकर 12803.78 अंक पर रहा।
बीएसई में अधिकांश समूह गिरावट में जिसमें बैंकिंग सबसे अधिक 2.2 प्रतिशत और वित्त 1.95 प्रतिशत फिसल गया। इस बीच एनर्जी में सबसे अधिक 2.29 प्रतिशत की बढोतरी हुयी। बीएसई में कुल 2833 कंपनियों में कारोबार हुआ जिसमें से 1663 लाल निशान में और 1000 हरे निशान में रहे जबकि 170 में कोई बदलाव नहीं हुआ। वैश्विक स्तर पर यूरोपीय बाजार बढ़त में रहे जबकि एशियाई बाजार गिरावट में रहे। चीन का शंघाई कंपोजिट 1295 प्रतिशत, हांगकांग का हैंगसेंग 1.84 प्रतिशत और जापान का निक्केई 1.06 प्रतिशत की गिरावट में रहा जबकि ब्रिटेन का एफटीएसई 0.54 प्रतिशत और जर्मनी का डैक्स 0.40 प्रतिशत की बढ़त में रहा।

Top Ad 728x90