रविवार, 5 अप्रैल 2020

टेस्ट नेगेटिव आने के बाद एम्स से कोरोना वायरस के तीन और रोगी डिस्चार्ज





रायपुर। अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान रायपुर से रविवार को कोरोना वायरस की तीन और रोगियों को डिस्चार्ज कर दिया गया। ये तीनों रोगी रायपुर के हैं। अब कोरोना वायरस से पीडि़त कोरबा के दो रोगी ही एम्स में इलाज के लिए एडमिट हैं।


निदेशक प्रो. (डॉ.) नितिन एम. नागरकर ने बताया कि एम्स में कोरोना वायरस पॉजीटिव पाए जाने पर इन तीनों रोगियों को भर्ती कराया गया था जहां आईसीएमआर के प्रोटोकॉल के अनुरूप तीनों का इलाज किया गया। लगातार दो दिनों से इनके कोरोना वायरस के टेस्ट नेगेटिव आ रहे थे जिसके बाद चिकित्सकों की कमेटी ने इन्हें डिस्चार्ज करने का निर्णय लिया। रविवार को प्रात: 10 बजे इन तीनों को डिस्चार्ज कर दिया गया। इन्हें 14 दिन के कवारेंटाइन में रहना होगा।

इस प्रकार एम्स से अब तक छह रोगी डिस्चार्ज किए जा चुके हैं। अब सिर्फ दो रोगी ही कोरोना वायरस के एम्स के आइसोलेशन वार्ड में इलाज के लिए एडमिट हैं। ये दोनों रोगी कोरबा के हैं। प्रो. नागरकर ने इस सफलता के लिए चिकित्सकों, अधिकारियों, नर्सिंग स्टॉफ और तकनीकी कर्मचारियों को दी है।

उन्होंने कहा है कि टीम भावना से कार्य करने के कारण रायपुर को कोरोना वायरस से मुक्त कर दिया गया है। य़दि शहर और प्रदेश के निवासी इसी प्रकार सजगता और सावधानी बरतेंगे तो कोरोना वायरस से बचाव संभव है। इसकी जिम्मेदारी सभी नागरिकों की है। उन्होंने एम्स की सफलता के लिए केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय और राज्य सरकार के स्वास्थ्य विभाग को धन्यवाद दिया है। उन्होंने कहा कि निरंतर सहयोग और संसाधन की उपलब्धता से एम्स यह परिणाम प्राप्त कर पाया है।

 नेफ्रोलॉजी की टेलीमेडिसिन ओपीडी बुधवार को


एम्स में टेलीमेडिसिन की ओपीडी सेवा में बुधवार 08 अप्रैल, 2020 को नेफ्रोलॉजी विभाग के चिकित्सक भी उपलब्ध रहेंगे। यह दस अन्य विभागों के अलावा फोन नंबर 7647079642 पर प्रात:11.30 से 1.30 बजे तक उपलब्ध होंगे। जो रोगी एम्स में अपना उपचार करा रहे हैं वे इस नंबर पर कॉल कर फॉलोअप उपचार के बारे में विस्तार से जानकारी ले सकते हैं।




0 comments:

टिप्पणी पोस्ट करें

Top Ad 728x90