सोमवार, 17 फ़रवरी 2020

मोरपेन लैब का मुनाफा 21.3 प्रतिशत बढ़ा

नई दिल्ली। फार्मा एवं हेल्थकेयर उत्पाद क्षेत्र की कंपनी मोरपेन लैबोरेट्रीज लिमिटेड ने चालू वित्त वर्ष की तीसरी तिमाही में 10.81 करोड़ रुपये का लाभ अर्जित किया है जो पिछले वित्त वर्ष की समान अवधि के 8.91 करोड़ रुपये की तुलना में 21.3 प्रतिशत अधिक है।
कंपनी के निदेशक मंंडल की बैठक के बाद सोमवार को जारी वित्तीय परिणाम के आंकड़ों के अनुसार दिसंबर 2019 को समाप्त इस तिमाही में उसका कुल राजस्व 234.65 करोड़ रुपये रहा जो वर्ष 2018-19 की इसी तिमाही के 214.59 करोड़ रुपये की तुलना में 9.4 प्रतिशत अधिक है। कंपनी के अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक सुशील सूरी ने वित वर्ष 2019-20 की तीसरी तिमाही के वित्तीय लेखाजोखा पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुये कहा कि भारत में मेडिकल डिवाइस के निर्माण में निवेश ने पहले ही नतीजे दिखाने शुरू कर दिए हैं। कंपनी मेडिकल में पिछड़े क्षेत्रों के एकीकरण और अधिकतम क्षमता निर्माण के लिए पूरी तरह तैयार है, जिससे कंपनी आगामी वर्षों में दुनिया भर और खासतौर से चीन से आयात होने वाले कच्चे सामान पर अपनी निर्भरता कम करना चाहती है।उन्होंने कहा कि तीसरी तिमाही में ब्रैंडेड फॉरम्युलेशन की बिक्री ने पिछले वित्तीय वर्ष की तीसरी तिमाही की तुलना में 35 फीसदी की बढ़ोतरी दर्ज की और यह 11.53 करोड़ रुपये तक पहुंच गया। पिछले वित्तीय वर्ष की तीसरी तिमाही की तुलना में 2019-20 की तीसरी तिमाही में गैस्ट्रो श्रेणी की बिक्री में 66 फीसदी और एंटीबायोटिक्स में 18 फीसदी की बढ़ोतरी दर्ज की गई। ब्रैंडेड जेनेरिक दवाओं की बिक्री ने 2019-20 की तीसरी तिमाही में भी अपनी मौजूदा रफ्तार बरकरार रखी और पिछले वित्त वर्ष की तीसरी तिमाही की तुलना में यह 23.99 करोड़ रुपये तक पहुंच गई। इस तिमाही में कुल होम डायग्नोस्टिक श्रेणी की बिक्री में लगभग स्थिरता बनी रही। नेबुलाइजर और दूसरे रेंज के उत्पादों ने इस तिमाही में क्रमश : 89 फीसदी और 28 फीसदी की बढ़ोतरी दर्ज की।

0 comments:

टिप्पणी पोस्ट करें

Top Ad 728x90