गुरुवार, 30 जनवरी 2020

जीत का चौका लगाने उतरेगी टीम इंडिया

वेलिंगटन। विराट कोहली की टीम इंडिया न्यूजीलैंड के खिलाफ तीसरे टी-20 मुकाबले को सुपर ओवर में जीतने के साथ इतिहास बना चुकी है और शुक्रवार को होने वाले चौथे मैच में वह वह अपने विजय रथ को 4-0 पहुंचाने के लक्ष्य के साथ उतरेगी।
भारतीय टीम ने तीसरा मैच जीतने के साथ पहली बार न्यूजीलैंड की जमीन पर टी-20 सीरीज जीतने का इतिहास बना दिया है। न्यूजीलैंड के पास तीसरे मैच में जीत हासिल करने के तमाम मौके थे लेकिन उसने सभी मौके गंवा दिए। कीवी टीम ने पहले मैच में 203 का स्कोर बनाया लेकिन उसके गेंदबाज उसका बचाव नहीं कर पाए जबकी दूसरे मैच में उसका स्कोर इतना छोटा था कि उसके गेंदबाजों के पास बचाव करने के लिए कुछ नहीं बचा था।
तीसरे मैच में उसे आखिरी ओवर में पांच गेंदों में सिर्फ तीन रन बनाने थे लेकिन कप्तान केन विलियम्सन और रॉस टेलर ऐसा नहीं कर पाए और तेज गेंदबाज मोहमद शमी को अपने विकेट गंवा बैठे। स्कोर टाई रहा और मेजबान टीम एक बार फिर सुपर ओवर में मैच गंवा बैठी। सुपर ओवर में टिम साउदी को आखिरी दो गेंदों पर भारत को 10 रन बनाने से रोकना था लेकिन साउदी भारतीय ओपनर रोहित शर्मा से दो छक्के खा बैठे।
भारतीय टीम अब लगातार छह टी-20 मैच जीत चुकी है और चौथे मैच में भी वह जीत के प्रबल दावेदार के रूप में उतरेगी। न्यूजीलैंड को अब सुपर ओवर की निराशा से उबर कर चौथे मैच में वापसी कर अपना सम्मान बचाने का प्रयास करना होगा। विलियम्सन के लिए यह हार और भी निराशाजनक रही क्योंकि वह अपने करियर की 95 रन की सर्वश्रेष्ठ पारी खेलने के बावजूद अपनी टीम को जीत नहीं दिला सके।
दरअसल विलियम्सन शतक के करीब थे और कीवी टीम को जीत के लिए मात्र दो रन चाहिए थे। विलियम्सन शतक पूरा करने की हड़बड़ाहट में बड़ा शॉट खेलने की कोशिश में अपना विकेट गंवा बैठे जबकि सिंगल लेकर उनकी टीम जीत सकती थी। तारीफ़ करनी होगी शमी की जिन्होंने नए बल्लेबाज को चौथी गेंद पर कोई रन नहीं लेने दिया और पांचवीं गेंद पर सिर्फ बाई का एक रन दिया। हालांकि स्कोर टाई हो चुका था लेकिन टेलर दबाव में आ चुके थे और आखिरी गेंद पर बोल्ड हो गए। यह हार विलियम्सन और टेलर को लम्बे समय तक याद रहेगी जबकि हार के जबड़े से जीत छीन लेने वाली टीम इंडिया को यह जीत लम्बे समय तक याद रहेगी। 

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

Top Ad 728x90