शुक्रवार, 20 दिसंबर 2019

,

एनसीए ने बुमराह का फिटनेस टेस्ट लेने से इनकार किया, गांगुली ने कहा- हर भारतीय क्रिकेटर का वहां जाना जरूरी


कोलकाता। पूर्व कप्तान राहुल द्रविड़ की अगुआई वाली नेशनल क्रिकेट एकेडमी (एनसीए) ने तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह का फिटनेस टेस्ट लेने से इनकार कर दिया।  द्रविड़ और फिजियोथेरेपिस्ट आशीष कौशिक ने विनम्रतापूर्वक बुमराह को मना कर दिया। इस पर बीसीसीआई के अध्यक्ष सौरव गांगुली ने शुक्रवार को कहा, ''भारतीय खिलाडिय़ों को एनसीए में जाना होगा। हम सुनिश्चित करेंगे कि यह आरामदयक हो।ÓÓ गांगुली ने इस मामले पर द्रविड़ से बात करने की भी बात कही है। बुमराह वेस्टइंडीज के खिलाफ अगस्त में हुए टेस्ट सीरीज के बाद चोटिल हो गए थे। इसके बाद वे निजी डॉक्टर्स के साथ चोट से उबरने का प्रयास कर रहे हैं। हाल ही में उन्होंने भारतीय टीम के साथ वेस्टइंडीज के खिलाफ दूसरे वनडे से पहले विशाखापट्टनम में अभ्यास किया था। एनसीए का मानना है कि बुमराह निजी विशेषज्ञों के साथ हैं, तो ऐसे में वे फिटनेस टेस्ट कैसे ले सकते हैं? वहीं, रिपोट्र्स के मुताबिक बुमराह ने भी टीम मैनेजमेंट को कहा कि वे एनसीए जाने के इच्छुक नहीं हैं। गांगुली ने कहा, ''एनसीए को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेटर्स के लिए पहला और आखिरी स्थान बनना है। यह भारतीय क्रिकेटरों के लिए है। सभी को एनसीए से गुजरना होगा। वे सभी जगहों पर साल भर क्रिकेट खेलते हैं। हम यह भी कोशिश करेंगे कि एनसीए के फिजिशियन मुंबई में बुमराह की मदद कर सकें। हम यह सुनिश्चित करना चाहते हैं कि एनसीए के साथ सबसे अच्छे लोग हों। राहुल से बहुत उम्मीद है। वे एक जबरदस्त खिलाड़ी थे। हम इसे सुलझा लेंगे। एनसीए को संगठित करने के लिए द्रविड़ प्रभार दिया गया है।ÓÓ 26 साल के बुमराह आईसीसी वनडे रैंकिंग में नंबर एक गेंदबाज हैं। वे आईपीएल की टीम दिल्ली कैपिटल्स के ट्रेनर रजनीकांत के साथ मुंबई में रिकवरी कर रहे हैं। बुमराह का फिटनेस टेस्ट लेने से मना करने के पीछे द्रविड़ का मानना है कि जब एनसीए ने उनका इलाज ही नहीं किया तो फिट होने का सर्टिफिकेट कैसे दे? अगर कुछ गलत होगा तो उसका जिम्मेदार कौन होगा? एनसीए ऐसी किसी भी बात के लिए सर्टिफिकेट कैसे दे सकती है, जिसके बारे में उसे कुछ जानकारी ही नहीं है?

0 comments:

टिप्पणी पोस्ट करें

Top Ad 728x90