Your Ads Here

बस्तर में 60 किसानों को पहली बार सोलर सामूहिक सिंचाई योजना का लाभ



  •  इस योजना से साल भर में 3 फसलों का लाभ लेंगे किसान 

जगदलपुर । किसानों को सिंचाई सुविधा देकर खेती का रकबा बढ़ाने क्रेडा और कृषि विभाग की कोशिश कारगर साबित हो रही है। एक ओर जहां कृषि विभाग शाकंभरी योजना के तहत सिंचाई पंप की सुविधा देकर किसानों बड़े पैमाने पर खेती करवा रहे हैं तो वहीं दूसरी ओर क्रेडा विभाग जगदलपुर ब्लॉक के बिजली विहीन तिरिया गांव में रहने वाले 60 किसान को पहली बार सोलर सामूहिक सिंचाई योजना का लाभ देने में जुट गया है। इस सुविधा के मिलने से किसान आने वाले दिनों में एक साल में तीन फसलों की खेती 100 एकड़ में करेंगे।
सालों बाद सोलर सिस्टम के जरिए मिलने वाली इस सुविधा का लाभ लेना यहां के किसानों ने शुरू कर दिया है। सिंचाई की सुविधा मिलने के बाद किसानों का कहना है कि वे अब तक मानसूनी बारिश पर निर्भर रहते हुए केवल धान की सीमित खेती कर पाते थे। लेकिन आने वाले दिनों में वे धान के साथ ही अब सब्जियों की खेती कर इसका फायदा लेंगे। जिला मुख्यालय से करीब 50 किमी दूर स्थित इस गांव के किसानों को सोलर सिस्टम के जरिए सिंचाई सुविधा देने के लिए क्रेडा विभाग ने अगस्त में काम शुरू किया था ।
पांच महीने की कोशिश के बाद विभाग को इस काम में सफलता मिल गई है। गौरतलब है कि सोलर सिस्टम से दी जाने वाली सुविधा में पानी की कोई कमी नहीं हो इसके लिए क्रेडा ने सोलर पंप गणेश बहार नाला के पास लगाया है। जहां पर पानी पर्याप्त है। हर किसान को पानी मिले इसके लिए 100 एकड़ का एक पैच बनाया गया है। हर खेत तक पानी पहुंचाने के लिए पाइप बिछाए हैं।
किसानों को इस योजना के तहत हर सीजन में भरपूर पानी मिले इसके लिए गणेश बहार नाला के किनारे 10-10 एचपी के तीन पंप लगाए गए हैं। इन पंपों से किसानों को हर समय पानी उनकी मांग के मुताबिक दिया जाएगा। इसके लिए नाले से पानी लिया जा रहा है। इस सिंचाई सुविधा के बदले किसानों को किसी प्रकार का शुल्क नहीं देना होगा। सोलर सिस्टम के जरिए किसानों को मिलने वाली सुविधा में किसी प्रकार की कोई गड़बड़ी नहीं हो और असमाजिक तत्व इसे कोई नुकसान नहीं पहुंचाएं इसके लिए इस सिस्टम की निगरानी गांव के कुछ युवकों के द्वारा एक समिति बनाकर की जाएगी।
सोलर सामुदायिक सिंचाई योजना को अमली जामा पहनाने के लिए क्रेडा विभाग के अधिकारियों ने इस योजना पर 84 लाख खर्च होने का इस्टीमेट बनाया था। विभाग ने 80 लाख में ही पूरा कर लिया है। सबसे अधिक खर्च इस योजना में पाइप लाइन बिछाने और कंट्रोल रूम को बनाने में हुआ है। विभाग को केंद्र और राज्य सरकार ने राशि दी है।
क्रेडा के सहायक अभियंता एनके राय ने बताया कि किसानों को सिचाई सुविधा देने सोलर सामूहिक सिंचाई योजना बनाई गई थी। तिरिया गांव में अब तक बिजली नहीं पहुंची है। इसीलिए इस गांव का चयन किया गया था। इस योजना को पूरा करने में 80 लाख रुपए खर्च किया गया है। योजना का 6 माह में पूरा कर लिया गया है । 

No comments

Powered by Blogger.