रोजगार पाने की क्षमता वाली आबादी का आंकड़ा नए शीर्ष पर



नई दिल्ली । पिछले 5 साल दौरान देश में रोजगार पाने की क्षमता वाली आबादी का आंकड़ा 33 प्रतिशत से बढ़कर रिकॉर्ड 47.38 प्रतिशत तक पहुंच गया है। यह जानकारी ‘इंडिया स्किल्स रिपोर्ट 2019’ में दी गई है। रिपोर्ट वैश्विक प्रतिभा का निर्धारण करने वाली कम्पनी ह्वीबॉक्स, प्रमुख मानव संसाधन तकनीक कम्पनी पीपुलस्ट्रांग तथा भारतीय वाणिज्य मंडल (सी.आई.आई.) ने मिलकर और संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम (यू.एन.डी.पी.), ऑल इंडिया काऊंसिल फॉर टैक्नीकल एजुकेशन (ए.आई.सी.टी.ई.) तथा भारतीय विश्वविद्यालय संघ (ए.आई.यू.) के सहयोग से तैयार की है।

रिपोर्ट में कहा गया है कि 2014 में रोजगार पाने के योग्य आबादी 33 प्रतिशत थी जो इस साल बढ़कर 47 प्रतिशत तक पहुंच गई है। इस दौरान इंजीनियरिंग में रोजगार के ज्यादा द्वार खुले हैं जबकि एम.बी.ए. पाठ्यक्रम की चमक फीकी पड़ी है। इस साल के डाटा में कहा गया है कि इंजीनियरिंग अंतिम वर्ष के 57 प्रतिशत स्नातकों के लिए रोजगार के अवसर बढ़े हैं जो पिछले साल की तुलना में 5 प्रतिशत अधिक हैं। देश के युवाओं में रोजगार पाने की क्षमता लगतार बढ़ रही है और इस साल यह रिकॉर्ड 47 प्रतिशत तक पहुंच गई है। पिछले साल की तुलना में इस स्थिति में 2 से 3 प्रतिशत का बदलाव आया है जबकि पिछले 5 साल दौरान इसमें बहुत बड़ा बदलाव आया है।