शनिवार, 4 जुलाई 2020

डीजीपी ने एसटीफ बघेरा, सीएएफ की पहली और सातवीं बटालियन में पुलिसकर्मियों और परिजनों से किया संवाद


  • स्पंदन कार्यक्रम में पुलिस जवानों की समस्याओं का मौके पर किया गया निराकरण

  •  पुलिस महानिदेशकअवस्थी नेएसटीएफ के विशेष प्रशिक्षण का निरीक्षण किया

रायपुर । मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल की पुलिस जवानों में तनाव कम करने की मंशा के अनुरूप प्रत्येक जिले में स्पंदन कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है, जिसके तहत वरिष्ठ पुलिस अधिकारी पुलिसकर्मियों से संवाद कर रहे हैं। इसी क्रम में आज पुलिस महानिदेशक श्री डीएम अवस्थी स्पंदन कार्यक्रम के तहत संवाद करने एसटीफ बघेरा, छत्तीसगढ़ सशस्त्र बल की भिलाई में स्थित पहली और सातवीं बटालियन पहुंचे। डीजीपी ने एसटीएफ बघेरा और छत्तीसगढ़ सशस्त्र बल की दोनों बटालियनों के जवानों और उनके परिजनों से संवाद किया। संवाद के दौरान परिजनों ने उन्हें अपनी समस्याओं से अवगत कराया जिनका मौके पर ही निराकरण कर दिया गया। परिजनों की जर्जर शासकीय आवास की बात पर श्री अवस्थी ने कहा कि हमारी कोशिश है कि प्रत्येक पुलिसकर्मी के पास स्वयं का मकान हो। नये शासकीय भवन निर्माण के साथ ही ऐसी व्यवस्था बनायी जाये जिससे आसान ऋण सुविधा से आपका स्वयं का मकान तैयार हो जाये। स्पंदन कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य पुलिसकर्मियों को तनाव रहित रखना है।
महिलाओं ने बटालियन के सामने से शराब दुकान स्थानांतरित करने की मांग पर डीजीपी ने अधिकारियों को निर्देशित किया कि कलेक्टर से बात कर उचित कार्रवाई करें। परिजनों की मांग पर बटालियन के पास से श्मशान को भी स्थानांतरित करने का आश्वासन दिया। बघेरा दुर्ग में उन्होंने एसटीएफ जवानों को दिये जा रहे विशेष प्रशिक्षण का निरीक्षण किया। एसटीएफ जवानों द्वारा डीजीपी को फायरिंग रेंज में फायरिंग अभ्यास, रॉक क्लाईंबिंग , सिमुलेटर रेंज में फायरिंग, पॉप अप टॉरगेट, इंटरवेंशन रेंज में हेलीकॉप्टर से उतरने की ट्रेनिंग और हॉस्टेज रेस्क्यू की मॉक ड्रिल कर दिखायी।
एसटीएफ जवानों को संबोधित करते हुए श्री अवस्थी ने कहा कि एसटीएफ छत्तीसगढ़ का सबसे सक्षम और पराक्रमी बल है। आपने अपने हौसले से नक्सलियों को बैकफुट पर ला दिया है। इसका सबसे बड़ा कारण आपको दिया जाने वाला विशेष प्रशिक्षण है। जिससे आप श्रेष्ठ बल बने हैं। राज्य से नक्सल समस्या खत्म करने में एसटीएफ की बड़ी भागीदारी है।
डीजीपी ने भिलाई में छत्तीसगढ़ सशस्त्र बल की प्रथम और सातवीं बटालियन का निरीक्षण भी किया। बटालियन स्थित शहीद गैलरी में उन्होंने शहीद जवानों को श्रद्धांजलि अर्पित की। उन्होंने राज्य की एकमात्र डॉग स्क्वॉड ट्रेनिंग सेंटर का निरीक्षण किया। खास बात है कि सातवीं बटालियन में ही बेल्जियम शेफर्ड की ब्रीड कर 24 डॉग प्रशिक्षित किये गये हैं, जो कि स्निफर और ट्रेकर में प्रशिक्षित हैं। इस दौरान उन्होंने सातवीं बटालियन में सर्वसुविधायुक्त जिम का निरीक्षण किया साथ ही महिला कल्याण सिलाई केंद्र का निरीक्षण किया, जहां पर महिलाएं वर्दी की सिलाई कर आर्थिक रूप से आत्मनिर्भर हो रही हैं।
इस दौरान आईजी दुर्ग श्री विवेकानंद सिन्हा, श्री एच आर मनहर, कर्नल रजनीश शर्मा, कमांडेंट प्रथम बटालियन श्री गोवर्धन ठाकुर, एसपी दुर्ग श्री प्रशांत ठाकुर, कमांडेंट सातवीं बटालियन श्री विजय अग्रवाल, एसपी एसटीएफ बघेरा श्री विजय पांडे उपस्थित रहे।

0 comments:

टिप्पणी पोस्ट करें

Top Ad 728x90