शुक्रवार, 10 जुलाई 2020

डीएमएफ की राशि स्थानीय लोगों की बेहतरी के लिए उपयोग किया जाए: डॉ. डहरिया


  • नगरीय प्रशासन मंत्री की अध्यक्षता में डीएमएफ की शासी परिषद की बैठक

रायपुर । नगरीय प्रशासन और कोरिया जिले के प्रभारी मंत्री डॉ. शिवकुमार डहरिया की अध्यक्षता में जिला खनिज संस्थान न्यास की शासी परिषद की बैठक संपन्न हुई। बैठक कोरिया कलेक्टोरेट सभाकक्ष में आयोजित हुई। बैठक में डीएमएफ के तहत स्वीकृत कार्यों की प्रगति की विस्तारपूर्वक जानकारी लेते हुए डॉ. डहरिया ने डीएमएफ की राशि का उपयोग स्थानीय लोगों की बेहतरी के लिए करने के निर्देश दिए।
डॉ. डहरिया ने कहा कि शासन द्वारा निर्धारित गाईड लाईन के अनुसार ही डीएमएफ की राशि खर्च की जाए। उन्होंने नवीन संशोधन के संबंध में कहा कि डीएमएफ की 60 प्रतिशत की राशि उच्च प्राथमिकता के क्षेत्रों में, 40 प्रतिशत की राशि मे से भौतिक अधोसंरचना के कार्याें में 20 प्रतिशत और शेष 20 प्रतिशत राशि सिंचाई विकास, ऊर्जा, जल विभाजक, सार्वजनिक परिवहन, सांस्कृतिक मूल्यों का संरक्षण, युवा गतिविधियों सहित विभिन्न कार्याें के लिए व्यय किए जाने का प्रावधान किया गया है।
प्रभारी मंत्री ने जिला खनिज संस्थान न्यास के स्वीकृत कार्याें और मुख्यमंत्री फ्लैगशिप योजना के अंतर्गत नरवा, गरूवा, घुरवा एवं बाड़ी, मुख्यमंत्री हाट बाजार क्लीनिक योजना, मुख्यमंत्री शहरी स्लम स्वास्थ्य योजना, सुपोषण योजना एवं वार्ड कार्यालय योजना के क्रियान्वयन की समीक्षा की और आवश्यक दिशा-निर्देश दिए। उन्होंने जल संसाधन विभाग द्वारा किये जा रहे कार्यों की जांच पीडब्लूडी एवं आरईएस विभाग के टीम बनाकर करने तथा 15 दिवस में रिपोर्ट प्रस्तुत करने कहा। उन्होंने कहा कि नगरीय निकायों में हितग्राहियों को पेंशन की राशि नियमित रूप से दिया जाना सुनिश्चित किया जाए।
बैठक में वीडियो कान्फ्रेंस के माध्यम से लोकसभा सांसद श्रीमती ज्योत्सना महंत भी शामिल हुई। बैठक में सरगुजा क्षेत्र आदिवासी विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष एवं भरतपुर-सोनहत क्षेत्र के विधायक श्री गुलाब कमरो, बैकुण्ठपुर क्षेत्र की विधायक श्रीमती अम्बिका सिंहदेव, मनेन्द्रगढ़ क्षेत्र के विधायक डॉ. विनय जायसवाल, कलेक्टर श्री सत्य नारायण राठौर, पुलिस अधीक्षक श्री चन्द्रमोहन सिंह सहित अन्य संबंधित वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

0 comments:

टिप्पणी पोस्ट करें

Top Ad 728x90