गुरुवार, 16 जुलाई 2020

कोरोनाकाल में मनरेगा बना रोजगार का जरिया : मनरेगा से एक लाख 11 हजार श्रमिकोें को बलरामपुर जिले में मिला रोजगार


रायपुर । कोरोनाकाल में रोजगार संकट को दूर करने मे मनरेगा ने एक प्रभावी भूमिका निभाई है। इस योजना के तहत श्रमिकों को रोजगारमूलक कार्यों से जोड़कर उनके आजीविका के संकट को दूर किया जा रहा है। बलरामपुर जिले में मनरेगा के तहत वित्तीय वर्ष 2020-21 के लिए 33.56 लाख मानव दिवस सृजित करने का लक्ष्य प्राप्त हुआ था। लक्ष्य के अनुरूप अब तक एक लाख 11 हजार श्रमिकों को रोजगार उपलब्ध कराया गया है। इसके एवज में 48.09 करोड़ रूपए का मजदूरी भुगतान किया जा चुका है।
जिले में शासन की संचालित योजनाओं के अंतर्गत गौठान निर्माण, नाला ट्रीटमेंट, डबरी निर्माण, कूप निर्माण सहित अनेकों कार्य कराए गए हैं। नरवा, गरूवा, घुरूवा एवं बाड़ी योजना के अंतर्गत जिले में 116 गौठान का निर्माण कार्य पूर्ण हो चुके हैं। जिले में नरवा ट्रीटमेंट के अंतर्गत निर्माणाधीन गेबियन, कंटूर ट्रेंच, बोल्डर चेक, गली प्लग, स्टॉप डेम आदि में मनरेगा के श्रमिकों द्वारा कार्य किया गया है। नरवा कार्यक्रम के अंतर्गत जिले में 60 नालों का चयन कर 6 हजार 828 कार्य स्वीकृत किये गये थे, जिसमें से 5 हजार 760 कार्य पूर्ण हो चुके हैं। जिले में पिछले तीन महीनों में लक्ष्य के विरूद्ध 67.44 प्रतिशत की उपलब्धि अर्जित की जा चुकी है।

0 comments:

टिप्पणी पोस्ट करें

Top Ad 728x90