गुरुवार, 16 अप्रैल 2020

केंद्रीय विद्यालय वैकल्पिक आइसोलेशन केंद्र बनाए गए


नई दिल्ली। सरकार ने कोरोना महामारी से लडऩे के लिए बुनियादी व्यवस्था करने वास्ते केंद्रीय विद्यालय के भवनों का आपात स्थिति में इस्तेमाल करने की योजना बनाई है। इसके तहत मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने कुछ केंद्रीय विद्यालयों को आइसोलेशन वार्ड के रूप में तैयार किया है। गौरतलब है कि पूर्णबंदी के कारण ये स्कूल बंद पड़े हैं। मानव संसाधन विकास मंत्री डॉ. रमेश पोखरियाल 'निशंकÓ ने ट्वीट कर यह जानकारी दी है। उत्तराखंड के जोशी मठ, मध्य प्रदेश के ग्वालियर, पंजाब के मालवा और राजस्थान के सीकर और उत्तर प्रदेश के रुड़की में इन केंद्रीय विद्यालयों को वैकल्पिक आइसोलेशन सेंटर बनाया गया है ताकि भविष्य में जरूरत पडऩे पर संदिग्ध मरीजों का क्वारंटाइन किया जा सके। इन स्कूलों के कमरे में बेड लगाए गए हैं और स्वच्छता का पूरा इंतज़ाम किया गया है।

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

Top Ad 728x90