रविवार, 15 मार्च 2020

,

कोरोना सुरक्षा : रेलवे ने एसी कोचों से पर्दे एवं कंबलों हटाए


नयी दिल्ली। देशभर में अभूतपूर्व एवं सघन अभियान छेड़ दिया है। इस अभियान में भारतीय रेल ने कोरोना विषाणु के फैलाव को रोकने के लिए स्टेशन परिसरों और गाडिय़ों की सूक्ष्मता से सफाई की जा रही है और वातानुकूलित कोचों में पर्दे एवं कंबलों को हटाया जा रहा है।

रेलवे के आधिकारिक सूत्रों के अनुसार ये अभियान मंडल एवं जोन के स्तर पर चलाये जा रहे हैं। कुछ ज़ोनों में यार्डों में गाडिय़ों के प्रत्येक कोच की सूक्ष्मता से सफाई की जा रही है। सीटों और खिड़की के शीशों के कोनों की शौचालय एवं शौचालय में लगे नलों, कोचों के प्रवेश द्वार पर लगे हैंडलों की रसायनों से सूक्ष्मता से साफ करके कीटाणु मुक्त किया जा रहा है। स्टेशन परिसर में लगे एस्केलेटर की रेलिंग, पुलों की रेलिंग, रैंप की रेलिंग, बेंच, वाटरबूथ, टॉयलेट, दरवाजों के नॉब तथा स्विच आदि की सफाई स्टीम क्लीनर द्वारा करके पूरी तरह से सेनेटाइज किया जा रहा है।

गार्ड एवं ड्राईवर लॉबी में हैंड सेनेटाइजर का प्रयोग सुनिश्चित किया गया है। मंडल के सभी स्टेशनों पर उद्घोषणा प्रणाली के माध्यम से कोरोना विषाणु के संक्रमण से बचाव के लिए यात्रियों को निरंतर जागरूक किया जा रहा है। प्रयागराज में उत्तरमध्य रेलवे ने वातानुकूलित कोचों को सेनिटाइज़ करने के लिए सघन सफाई के बाद करीब आधा घंटे के लिए 35 डिग्री सेल्शियस के तापमान पर रखा जा रहा है और तब कूलिंग की जा रही है। इसका कारण है कि कोरोना विषाणु 28 डिग्री सेल्शियस से अधिक तापमान पर खत्म हो जाता है। इसके अलावा उत्तर मध्य रेलवे, उत्तर रेलवे, पश्चिम रेलवे सहित कई ज़ोनों ने कंबल हटा लिये हैं और वातानुकूलित द्वितीय श्रेणी से पर्दे भी हटाये जा रहे हैं।

0 comments:

टिप्पणी पोस्ट करें

Top Ad 728x90