दिल्ली का 2020..21 का बजट 65 हजार करोड़ रुपए, स्वास्थ्य और शिक्षा पर जोर, कोरोना के लिए 50 करोड़ - npnews.co.in

Breaking

Home Top Ad

Responsive Ads Here

Post Top Ad

Responsive Ads Here

Monday, 23 March 2020

दिल्ली का 2020..21 का बजट 65 हजार करोड़ रुपए, स्वास्थ्य और शिक्षा पर जोर, कोरोना के लिए 50 करोड़

नई दिल्ली। दिल्ली सरकार ने सोमवार को 2020-21 के लिए 65 हजार करोड़ रुपए का बजट पेश करते हुए शिक्षा और स्वास्थ्य को प्राथमिकता देते हुए राजधानी में केंद्र की आयुष्मान भारत योजना, कोरोना वायरस की मद में 50 करोड़ रुपए, 200 यूनिट तक बिजली फ्री और महिलाओं को दिल्ली परिवहन निगम (डीटीसी) की बसों में मुफ्त यात्रा योजना को चालू रखने की घोषणा की है।
वित्त मंत्री मनीष सिसोदिया ने आज विधानसभा में आगामी वित्त वर्ष का बजट पेश करते हुए कहा कि पिछले पांच वर्षों की तरह सरकार की स्वास्थ्य और शिक्षा क्षेत्र को प्राथमिकता जारी रहेगी। चालू वित्त वर्ष के लिए दिलली सरकार का बजट 60 हजार करोड रुपए का था। सिसोदिया ने 2020-21 में स्वास्थ्य क्षेत्र के लिए 7704 करोड़ रुपए का प्रावधान करते हुए कहा कि दिल्ली सरकार राजधानी में केंद्र सरकार की स्वास्थ्य योजना आयुष्मान भारत को लागू करेगी। नये अस्पतालों के लिए 724 करोड़ रुपए और नये मोहल्ला क्लीनिक और पाली क्लीनिक खोलने के 365 करोड़ रुपए का प्रावधान किया गया है। कोरोना वायरस से निपटने के लिए धन की किसी प्रकार की कमी नहीं आने देने का आश्वासन देते हुए वित्त मंत्री ने बजट में 50 करोड़ रुपए का प्रावधान किया है।
डीटीसी की बसों में महिलाओं को मुफ्त यात्रा आगामी वित्त वर्ष में जारी रखने का ऐलान करते हुए सिसोदिया ने कहा कि 200 यूनिट मासिक खपत वाले बिजली उपभोक्ताओं को फ्री विद्युत 2020.221 में भी जारी रहेगी। बिजली सब्सिडी के लिए 2820 करोड़ रुपए का प्रावधान किया गया है। दस करोड़ रुपए से दिल्ली दर्शन योजना को लागू करने का ऐलान करते हुए 'मुख्यमंत्री तीर्थ योजनाÓ के लिए 100 करोड़ रुपए का प्रावधान किया गया है। सिसोदिया ने कहा कि हाल में उत्तर-पूर्वी दिल्ली में हुई हिंसा को देखते हुए राजधानी में सांप्रदायिक सद्भाव अभियान चलाया जायेगा। प्रदूषण को कम करने के लिए बजट में 30 करोड़ रुपए का प्रावधान करने के साथ ही ' पर्यावरण मार्शलÓ नियुक्त करने की भी घोषणा की गई है। पंद्रह नये स्कूल खोलने का ऐलान करते हुए सिसोदिया ने कहा कि दिलली का अपना शिक्षा बोर्ड बनाया जायेगा। दिल्ली की सड़कों को संवारने के लिए 193 करोड़ रुपए का प्रावधान किया गया है। दिल्ली सरकार के प्रत्येक स्कूल में डिजिटल कक्षाओं के लिए 100 करोड रुपए अवंटित किए गए हैं। दिल्ली में 145 नये एक्सीलेंसी स्कूल बनाने का प्रस्ताव है। राजधानी में 29 शिक्षा जोन है और प्रत्येक जोन में पांच एक्सीलेंसी स्कूल होंगे। राजधानी के सरकारी स्कूलों में सभी बच्चों मुफ्त समाचारपत्र दिए जायेंगे। अंग्रेजी बोलना और व्यक्तित्व विकास पाठ्यक्रम के लिए 12 करोड़ रुपए का प्रावधान किया गया है। कच्ची कालोनियों में मूलभूत सुविधाओं के लिए 1700 करोड रुपए रखे गए हैं। राजधानी में डीटीसी की बसों की पार्किंग की समस्या से निपटने के लिए 1700 करोड रुपए का प्रस्ताव किया गया है। वित्त मंत्री ने कहा कि वर्ष 2015 में जब आम आदमी पार्टी(आप) सरकार सत्ता में आई तो दिल्ली की प्रति व्यक्ति आय दो लाख 70 हजार 261 रुपए थी पिछले पांच साल में इसमें 44 प्रतिशत की बढ़ोतरी हो चुकी है। देश की तुलना में दिल्ली की प्रति व्यक्ति आय तीन गुना अधिक है। उन्होंने कहा कि अभी राजधानी में 2000 फ्री वाई फाई हाटस्पाट्स हैं जिनकी संख्या बढ़ाकर 11 की जायेगी।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Responsive Ads Here

Pages