गुरुवार, 13 फ़रवरी 2020

अनुच्छेद 370 के कारण योजनाओं का लाभ नहीं मिला जम्मू कश्मीर को: नायडू

नई दिल्ली। उप राष्ट्रपति एवं राज्यसभा के सभापति एम. वेंकैया नायडू ने बृहस्पतिवार को कहा कि अनुच्छेद 370 के कारण जम्मू-कश्मीर के लोगों को कल्याणकारी कार्यक्रमों और योजनाओं का लाभ नहीं मिला और राज्य में अलगाववाद की भावना को प्रोत्साहन मिला। श्री नायडू ने यहां कनाडा की संसद-सीनेट के अध्यक्ष जार्ज जे. फ्यूरे के साथ एक बैठक में कहा कि जम्मू-कश्मीर का भारत में विधिवत् सम्मिलन हुआ है और अनुच्छेद 370 हटाना एक संवैधानिक घटनाक्रम है। अनुच्छेद 370 संविधान में अस्थायी तौर पर शामिल किया गया था लेकिन यह 71 वर्ष तक बना रहा और इसे पिछले वर्ष हटा दिया गया। चूंकि जम्मू- कश्मीर एक सीमाई राज्य है और इसकी सीमा पाकिस्तान और चीन से लगती है। इसका लाभ उठाकर बाहरी ताकतें राज्य में अलगाववाद को प्रोत्साहन देती हैं। फ्यूरे ने श्री नायडू को कनाडा की यात्रा करने का आमंत्रण भी दिया। कनाडा के शिष्टमंडल में सीनेट में विपक्ष के नेता डोनाल्ड नेल प्लेट, सीनेटर युवोने बोयर और भारत में कनाडा के उच्चायुक्त भी शामिल हैं।

0 comments:

टिप्पणी पोस्ट करें

Top Ad 728x90