गुरुवार, 13 फ़रवरी 2020

शुक्रवार को जारी होगी फसलों की 34 नयी किस्में

नई दिल्ली। भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान के शुक्रवार को होने वाले दीक्षांत समारोह के दौरान अनाज, सब्जियों एवं फलों की फसलों की 34 नयी किस्मों को जारी किया जायेगा। संस्थान के निदेशक अशोक कुमार सिंह ने गुरुवार को संवाददाता सम्मेलन में बताया कि इन किस्मों में गेहूं के नौ, मक्का के चार, मटर के दो तथा मसूर, मूंग और सोयाबीन की एक एक किस्में शामिल है। इस दौरान सब्जियों की ग्यारह, और फलों की चार किस्मों को भी जारी किया जायेगा । डा सिंह ने बताया कि पूसा खीरा-8 एक ऐसी किस्म है जिसे कम लागत वाले पॉली हाउस में सर्दियों के दौरान लगाया जाता है। नवम्बर से मार्च के दौरान इसकी पैदावार ली जा सकती है। प्रति हेक्टेयर 80 से 85 टन इसकी पैदावार ली जा सकती है। संस्थान ने तीव्र बैगनी रंग का पूसा पर्पल फूलगोभी-1 विकसित किया है । अधिक पैदावार देने वाली टमाटर की पूसा रक्षित किस्म का विकास किया गया है जो संरक्षित खेती के लिये उपयुक्त है। प्रति वर्ग मीटर 15 किलोग्राम इसका उत्पादन लिया जा सकता है। पके टमाटरों में लाइकोपीन की मात्रा 6.0 मिलीग्राम प्रति 100 ग्राम है । पालक की नयी किस्म पूसा विलायती कम समय में तैयार हो जाती है । इस किस्म की पैदावार प्रति हेक्टेयर 12 टन है और इसकी दो बार कटिंग की जाती है । इसमें उच्च कार्बनिक एसिड, आयरन और कैल्शियम है । फलों में आम की दो नयी किस्म और अंगूर की एक किस्म जारी किया जायेगा। आम की पूसा मनोहरि और पूसा दीपशिखा का विकास लम्बे अनुसंधान के बाद किया गया है। इनका छिलका पकने पर गहरे लाल रंग का होता है और ये गुच्छी रोग प्रतिरोधक भी है। आम की इन किस्मों में पकने के बाद अधिक दिनों तक टिकने की क्षमता है ।

0 comments:

टिप्पणी पोस्ट करें

Top Ad 728x90