शुक्रवार, 3 जनवरी 2020

,

पीएफआई ने पश्चिम बंगाल में किया बंद का आह्वान, टीएमसी सांसद को भी बुलाया

कोलकाता। नागरिकता संशोधन कानून को लेकर चल रहा विरोध-प्रदर्शन खत्म होने का नाम नहीं ले रहा है। खासकर पश्चिम बंगाल में सीएए और एनआरसी का विरोध-प्रदर्शन लगातार जारी है। इसकी एक वजह यह भी है कि यहां की सत्तारूढ़ पार्टी भी इन दोनों कानूनों के खिलाफ है। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी खुद विरोध-प्रदर्शन में शामिल हो चुकी हैं।
अब इस्लामिक संगठन पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (पीएफआई) ने पांच जनवरी को पश्चिम बंगाल के मुर्शिदाबाद जिले में सीएए के खिलाफ विरोध रैली का आह्वान किया है और स्थानीय टीएमसी सांसद अबू ताहिर खान को संबोधित करने के लिए आमंत्रित किया है। यह जानकारी गुरुवार को संगठन के एक पदाधिकारी ने दी। वहीं, उत्तर प्रदेश सरकार ने नागरिकता संशोधन अधिनियम, 2019 के खिलाफ विरोध प्रदर्शन के दौरान राज्य भर में हिंसा में कथित भागीदारी के लिए पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया पर प्रतिबंध लगाने की मांग की है। पीएफआई पश्चिम बंगाल के महासचिव मनीरुल शेख ने बताया, 'हम पांच जनवरी को मुर्शिदाबाद में सीएए के खिलाफ एक रैली का आयोजन कर रहे हैं और मुर्शिदाबाद टीएमसी सांसद अबू ताहिर खान सहित कई वक्ताओं को आमंत्रित किया है। उन्होंने इस विरोध कार्यक्रम का हिस्सा बनने के लिए फोन पर अपनी सहमति दी है। हालांकि, जब खान से संपर्क किया गया तो उन्होंने कहा कि उन्हें पीएफआई से निमंत्रण नहीं मिला है और संगठन ने अपने पोस्टर पर उनकी अनुमति के बिना उनके नाम का इस्तेमाल किया है। टीएमसी सांसद ने कहा, 'मुझे न तो पीएफआई से कोई निमंत्रण मिला है और न ही मैंने इस तरह के किसी कार्यक्रम में उपस्थित होने की सहमति दी है। अगर संगठन मेरी सहमति के बिना मेरे नाम का इस्तेमाल कर रहा है, तो यह अनैतिक है।Ó

0 comments:

टिप्पणी पोस्ट करें

Top Ad 728x90