शुक्रवार, 10 जनवरी 2020

जेसीपीओए से पीछे हटा तो दो साल में परमाणु हथियार बना लेगा ईरान: फ्रांस

पेरिस। फ्रांस ने कहा है कि अगर ईरान संयुक्त व्यापक कार्य योजना (जेसीपीओए) से पीछे हटना जारी रखता है तो वह दो वर्ष के भीतर परमाणु हथियार बना लेगा। फ्रांस के विदेश मंत्री जे वाई ली ड्रायन ने शुक्रवार को कहा, अगर वे वियना संधि की अनदेखी जारी रखेंगे तो हां, वे महज एक या दो वर्ष की अवधि के भीतर परमाणु हथियार बना लेंगे। यूरोपीय देशों के विदेश मंत्री ईरान की परमाणु क्षमता को सीमा में रखने वाले जेसीपीओए को उबारने के उपायों पर चर्चा के लिए बेल्जियम की राजधानी ब्रसेल्स में आपातकालीन बैठक करेंगे। इस पर वियना में 2015 में ईरान, रूस, चीन, फ्रांस, ब्रिटेन, अमेरिका और जर्मनी ने दस्तखत किये थे। यूरोपीय संघ ने भी इस समझौते पर हस्ताक्षर किये थे। अमेरिका ने मई 2018 में इससे अलग होने का एक तरफा फैसला किया था और ईरान पर कई आर्थिक प्रतिबंध लगा दिये थे। ईरान ने इराक में अमेरिकी हवाई हमले में इस्लामिक रिवोल्यूशरी गाड्र्स कोर के कुद्स फोर्स के मेजर जनरल कासिम सुलमानी के मारे जाने के बाद रविवार को घोषणा की थी कि वह जेसीपीओए के दायित्वों को पूरा करना जारी नहीं रखेगा। संयुक्त राष्ट्र में ईरान के राजदूत माजिद तख्त रावांची ने हालांकि मंगलवार को कहा कि जेसीपीओए से पीछे हटने के बावजूद ईरान परमाणु हथियार रखने का इच्छुक नहीं है।

0 comments:

टिप्पणी पोस्ट करें

Top Ad 728x90