मंगलवार, 31 दिसंबर 2019

,

भाजपा मुस्लिमों को नागरिकता देने के खिलाफ नहीं, प्रदर्शनों में मारे जाते हैं निर्दोष: राम माधव

बंगलूरू। देशभर में नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) का विरोध हो रहा है। इसी बीच सोमवार को भाजपा महासचिव राम माधव ने कहा कि सीएए के खिलाफ देशभर में हुई हिंसा में निर्दोष लोग भी मारे गए। उन्होंने कहा, 'विपक्ष के नेतृत्व में देशभर में कई स्थानों पर हिंसक प्रदर्शन हुए। जिसमें कई बेगुनाहों की जान चली गई। भाजपा मुस्लिमों को नागरिकता देने के खिलाफ नहीं है। यदि ऐसा होता तो पाकिस्तान से आए गायक अदनान सामी को भारतीय नागरिकता नहीं दी जाती।
माधव ने कहा, 'यह कानून किसी को व्यक्ति को देश से बाहर नहीं करता है बल्कि उन लोगों को नागरिकता प्रदान करता है जो पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश में धार्मिक आधार पर उत्पीडऩ झेलते रहे हैं। सीएए का विरोध कर रहे नेताओं को इसकी पूरी जानकारी नहीं है। इसके अलावा वह नई चीजों को ग्रहण नहीं करना चाहते। हमारे स्कूल के दिनों में वाटरप्रूफ घड़ी पहनने का चलन था। जिसमें पानी नहीं जा सकता था। ठीक उसी तरह विपक्षी नेता सीएए को लेकर पूर्वधारणा से ग्रसित हैं।
वहीं केरल के मुख्यमंत्री पिनराई विजयन ने मंगलवार को राज्य विधानसभा में सीएए को खत्म करने की मांग को लेकर एक प्रस्ताव रखा। जो पास हो गया है। प्रस्ताव पेश करते हुए विजयन ने कहा कि सीएए धर्मनिरपेक्ष नजरिए और देश के ताने बाने के खिलाफ है तथा इसमें नागरिकता देने में धर्म के आधार पर भेदभाव होगा। उन्होंने कहा, 'यह कानून संविधान के आधारभूत मूल्यों और सिद्धांतों के विरोधाभासी है।
उन्होंने कहा, कहा, 'केरल में धर्मनिरपेक्षता, यूनानियों, रोमन, अरबों का एक लंबा इतिहास रहा है। हर कोई हमारी भूमि पर पहुंचा है। ईसाई और मुस्लिम शुरुआत में केरल पहुंच गए थे। हमारी परंपरा समावेशिता की है। हमारी विधानसभा को इस परंपरा को जीवित रखने की आवश्यकता है।Ó इस प्रस्ताव का भाजपा के इकलौते विधायक ओ राजगोपाल ने प्रस्ताव पर आपत्ति जताते हुए कहा कि यह गैरकानूनी है क्योंकि संसद के दोनों सदनों ने सीएए कानून को पारित कर दिया है।

0 comments:

टिप्पणी पोस्ट करें

Top Ad 728x90