Your Ads Here

कानूनी मुश्किलों में फंसे अजीत जोगी की तबियत अचानक बिगड़ी, मेदांता में भर्ती


  • तत्कालीन तहसीलदार ने कहा प्रमाण पत्र में मेरे जाली हस्ताक्षर
रायपुर । फर्जी जाति प्रमाण पत्र के आधार पर छलपूर्वक दुरुपयोग करने के मामले में पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी के खिलाफ बिलासपुर के सिविल लाईन के साथ ही गौरेला थाने में एक और मामला पंजीबद्ध हो गया है। इधर कानूनी मुश्किलों में फंसे अजीत जोगी की तबियत अचानक बिगड़ी और उन्हें आनन-फानन में मेदांता हॉस्पिटल में भर्ती कराना पड़ गया है।
फर्जी जाति प्रमाण पत्र के मामले में जोगी परिवार पर कानूनी शिकंजा कसता जा रहा है। जाति छानबीन समिति के निष्कर्ष के आधार पर पहले सिविल लाईन बिलासपुर में अपराध पंजीबद्ध किया गया था। इसके बाद समीर पैंकरा की शिकायत पर अब गौरेला थाने में भी अजीत जोगी के खिलाफ अपराध दर्ज किया गया है। ताजा प्रकरण पतरस तिर्की के उस शपथ पत्र के बाद दर्ज किया गया है, जिसमें श्री तिर्की ने दावा किया है कि उनके द्वारा पूर्व सीएम अजीत जोगी को कोई जाति प्रमाण पत्र जारी नहीं किया गया है, यहां तक की प्रमाण पत्र में उनका हस्ताक्षर भी फर्जी है। इस आधार पर समीर पैंकरा की शिकायत पर अब गौरेला थाना पुलिस ने पूर्व सीएम और मरवाही विधायक अजीत जोगी के खिलाफ धोखाधड़ी का मामला दर्ज किया गया है। इधर पूर्व सीएम के अस्वस्थ्य होने के बीच अचानक उनकी तबियत बिगड़ गई। परिजनों ने उन्हेंं सबसे पहले राजधानी के ही एक निजी अस्पताल में दिखाया और इसके बाद उन्हें सीधे मेदांता अस्पताल में भर्ती कराया गया है।  

No comments

Powered by Blogger.