मंगलवार, 3 सितंबर 2019

,

रेलवे पुलिस की सजगता से 12 घन्टे के भीतर मिला अपहृत बालक


दुर्ग/महासमुंद । रेलवे पुलिस की सजगता से सोमवार को शाम को बागबहरा से अपहृत मासूम को सुरक्षित बरामद किया गया। बच्चा स्टेशन परिसर में बने हनुमान मंदिर के पास शाम करीब 6 बजे अकेला कंकड़ से खेल रहा था। रेलवे पुलिस की नजर उस पर पड़ी तो उसे जीआरपी चौकी लाया गया। मासूम वरुण बारिक के मिलने की सूचना रेलवे एसपी को दी गई। इसके बाद महासमुंद से आई पुलिस की टीम को मासूम को सौंपा गया। उसे अपहरण कर लाने वाले आरोपियों का पता नहीं चला।
रेलवे पुलिस को सूचना मिली थी कि एक मासूम का अपहरण कर आरोपी रायपुर-दुर्ग की ओर भागा है। सूचना के आधार पर चौकी प्रभारी राजेन्द्र सिंह ने स्टाफ को हर गाड़ी पर नजर रखने और कुछ सिपाहियों को स्टेशन के आसपास खोजबीन करने कहा था। सूचना मिलते ही महासमुंद पुलिस से बच्चे का फोटो मंगाया गया। फोटो को रेलवे जीआरपी गु्रप में वायरल किया गया।
चौकी प्रभारी दुर्ग ने उस फोटो को अपने स्टाफ के वाट्सऐप में वायरल किया। वायरल हुए फोटो को देख जीआरपी ने मासूम की पहचान की। पुलिस ने बताया कि वरुण बारिक पिता पुररू बारिक वार्ड 8 बागबाहरा निवासी है। उसे महासमुंद के एक युवक ने अपहरण किया था। पुलिस ने रेलवे पुलिस की मदद ली और सभी स्टेशनों के आरपीएफ व जीआरपी को अलर्ट किया गया।
रेलवे स्टेशन में मासूम के गुम होने की उद्घोषणा भी की गई। रेलवे पुलिस को संदेह है कि उद्घोषणा सुनने के बाद आरोपी युवक घबरा गया और वह स्टेशन से बाहर मासूम को मंदिर के पास छोड़ फरार हो गया। मासूम को लेने दुर्ग पहुंची महासमुंद और बागबहरा की टीम बच्चे के बरामद होने के बाद साक्ष्य एकत्र करने में जुट गई है।
स्टेशन में लगे सीसी टीवी फुटेज को खंगाला जा रहा है। पुलिस का कहना है कि स्टेशन में लगे कैमरे में आरोपी कैद हुआ होगा। जीआरपी चौकी प्रभारी राजेंद्र सिंह ने बताया कि बच्चा मंदिर के निकट मिला था। बच्चे की पहचान होने के बाद हमने गु्रप में फोटो खीच कर पोस्ट किया था। परिजनों ने तत्काल बच्चे को पहचान लिया इसके बाद रायपुर से आई टीम को मासूम को सौंपा गया। 

0 comments:

टिप्पणी पोस्ट करें

Top Ad 728x90