Your Ads Here

कलेक्टर बने मतगणना कर्मी और सीईओ ने संभाला ऑब्जर्वर का काम


  •  प्रशिक्षण के लिए बना आदर्श मतगणना हॉल
  • अधिकारियों ने समझी मतगणना की बारीकियाँ
रायपुर । लोक सभा निर्वाचन 2019 के लिए आगामी 23 मई को होने वाली मतगणना के लिए अधिकारियों का प्रशिक्षण अधिक व्यावहारिक रूप से संपन्न हो सके इसलिए आज प्रशिक्षण स्थल मतगणना हॉल में बदला हुआ नजर आया। सर्किट हाउस के ऑडिटोरियम में आयोजित प्रशिक्षण कार्यक्रम के लिए प्रशिक्षण हॉल के साथ ही एक आदर्श मतगणना केंद्र की स्थापना की गई थी। इस मतगणना हॉल में प्रत्येक छोटे- बड़े विषयों और तकनीकी पहलुओं का विशेष ध्यान रखा गया था । कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारियों ने मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी के साथ प्रशिक्षण स्थल पर स्थापित किए गए आदर्श मतगणना स्थल में स्वयं उपस्थित रहकर मतगणना प्रक्रिया की बारीकियों को गंभीरता से जाना और समझा। इस अवसर पर मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी सुब्रत साहू ने आब्जर्वर का पद संभाला, वही 11 लोकसभा क्षेत्रों के निर्वाचन अधिकारियों ने मतगणना कार्मिक की भूमिका निभाई।
मतगणना के दौरान मतगणना हॉल में कितने टेबल लगाए जाने हैं, टेबल किस प्रकार लगाए जाने हैं, प्रेक्षक तथा सहायक रिटर्निंग अधिकारी के बैठने का स्थान क्या होना चाहिए, प्रत्याशी, उनके अधिकृत प्रतिनिधि और मतगणना अभिकर्ता किन स्थानों पर बैठेंगे तथा वीवीपैट की गणना के लिए कौन सा टेबल निर्धारित किया जाए, डाक मतपत्र की गणना
कहाँ हो समेत
अन्य कई महत्वपूर्ण विषयों को शामिल करते हुए मतगणना हॉल का प्रादर्श बनाया गया था।
प्रशिक्षण के दौरान व्यावहारिक अनुभव कराने के लिए मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी सुब्रत साहू ने सभी रिटर्निंग अधिकारियों के साथ मिलकर आदर्श मतगणना हॉल का अवलोकन किया तथा सभी ने मतगणना हॉल मैं बैठकर मतगणना गतिविधियों को व्यावहारिक रूप से समझने का प्रयास किया। इस दौरान मतगणना हॉल में सीईओ ने मतगणना के दौरान रखी जाने वाली सावधानियों के संबंध में कुछ महत्वपूर्ण जानकारियां भी साझा की।
इस डेमो मतगणना के दौरान अतिरिक्त मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी डॉ. एस भारतीदासन , संयुक्त मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी समीर बिश्नोई, श्रीमती पद्मिनी भाई साह, डॉ. के आर आर सिंह, सभी रिटर्निंग एवं सहायक रिटर्निंग अधिकारी मौजूद थे। 

No comments

Powered by Blogger.