Your Ads Here

अमित जोगी ने मुख्य चुनाव अधिकारी को लिखा पत्र


  • -सुकमा पुलिस अधीक्षक के स्थानांतरण और सरकारी विज्ञापन देने को बताया आचार संहिता का खुला उल्लंघन
  • -निष्पक्ष चुनाव के लिए की कड़ी कार्रवाही की मांग

रायपुर । जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ के अध्यक्ष अमित जोगी ने मंगलवार को मुख्य चुनाव अधिकारी को एक पत्र लिखा है जिसमें उन्होंने प्रदेश में राज्य सरकार द्वारा आचार संहिता का उल्लंघन करने का आरोप लगाया है।
श्री जोगी ने अपने पत्र में लिखा है कि सोमवार को ही सर्वोच्च न्यायालय द्वारा प्रकाश सिंह प्रकरण, छत्तीसगढ़ पुलिस अधिनियम 2007 और आचार संहिता के सभी नियमों की धज्जियां उड़ाते राज्य शासन के एक मंत्री के दबाव में अति-संवेदनशील सुकमा जिले के पुलिस अधीक्षक का तबादला कर दिया गया। उन्होंने कहा है कि समाचार पत्रों से ज्ञात हुआ है कि उक्त अधिकारी ने अपने स्थानीय विधायक और शासन के मंत्री के थानेदार को हटाने के निर्देशों का पालन करने से इनकार कर दिया और इस कारण प्रदेश सरकार द्वारा उनकी पदस्थापना के दो महीने बाद ही स्थानांतरण पुलिस मुख्यालय रायपुर कर दिया गया। इससे निश्चित रूप से बाकी अधिकारियों में भी प्रशासनिक भय और आतंक का वातावरण निर्मित हो रहा है जो चुनाव की निष्पक्षता ले लिए घातक सिद्ध होगा। श्री जोगी ने एक अन्य उदाहरण देते हुए पत्र में कहा है कि कांग्रेस से सम्बद्ध एक दैनिक अखबार को बतौर विज्ञापन राज्य सरकार के द्वारा 50 लाख की राशि दी गई है। इस अखबार का ना तो छत्तीसगढ़ में कोई वर्चस्व है और न ही कोई कार्यालय। ऐसा केवल अपने राजनीतिक दल को जनता के पैसे से फायदा पहुंचाने के उद्देश्य से किया गया है। इस प्रकार राज्य सरकार द्वारा चुनाव प्रभावित करने के उद्देश से लगातार प्रशासनिक तंत्र का खुला दुरुपयोग किया जा रहा है। अपने पत्र में श्री जोगी ने मुख्य चुनाव आयोग से अनुरोध किया है कि उपरोक्त दोनों शिकायतों की जांच कराकर तत्काल उचित कार्यवाही करें ताकि प्रदेश में निष्पक्षता के साथ चुनाव सम्पन्न हो सके। 

No comments

Powered by Blogger.