Your Ads Here

स्काई वॉक निर्माण में होगी अनियमितता की जांच-लोकनिर्माण मंत्री


  • धर्मजीत सिंह एवं ब्रिहस्पति सिंह ने ध्यानाकर्षण सूचना में उठाया औचित्य का प्रश्न
रायपुर । छत्तीसगढ़ विधानसभा में आज सदस्य धर्मजीत सिंह एवं ब्रिहस्पति सिंह ने आज छत्तीसगढ़ विधानसभा के बजट सत्र के दौरान अपनी ध्यानाकर्षण सूचना के माध्यम से रायपुर शहर में निर्माणाधीन स्काई वॉक की आवश्यकता, निर्माण एवं औचित्य का प्रश्र उठाया। जिसके जवाब में छत्तीसगढ़ के लोकनिर्माण मंत्री ताम्रध्वज साहू ने अपने लिखित वक्तव्य में विस्तृत जानकारी दी। जिससे असंतुष्ठ प्रश्र कर्ताओं ने स्काईवॉक निर्माण में हुई अनियमितता की जांच करने की मांग की। इस संबंध में मंत्री ने सदन में घोषणा की कि निर्माण में यदि अनियमितता हुई है तो उसकी जांच कराई जाएगी।
लोकनिर्माण मंत्री ताम्रध्वज साहू ने अपने वक्तव्य में बताया कि रायपुर शहर में निर्माणाधीन पैदल यात्रियों के लिए आने जाने हेतु सुरक्षित यातायात की दृष्टि से अतिव्यस्ततम शास्त्री चौक पर स्काई वॉक का निर्माण किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि शासन द्वारा इसे वर्ष 2016-17 की बजट में शामिल किया गया। तत्पश्चात शासन द्वारा एस.एन.भोबे एंड एसोसिएट्स प्राईवेट लिमिटेड मुंबई को दिनांक 20/09/2016 द्वारा डी.पी.आर. एवं पी.एम.सी. तैयार करने हेतु अनुबंध किया गया। कंसल्टेंट द्वारा डी.पी.आर.के अनुसार शास्त्री चौक पर प्रतिदिन लगभग 27000 पैदल यात्रियों एवं मेकाहारा चौक पर लगभग 14000 पैदल यात्रियों के आने-जाने का सर्वे किया गया। कंसल्टेंट द्वारा प्रस्तुत डी.पी.आर. एवं प्राक्कलन के आधार पर राशि रूपऐ 5908.89 लाख की प्रशासकिय स्वीकृति दिनांक 08/03/2017 को विभाग द्वारा दी गई थी तत्पश्चात अनुबंध की प्रक्रिया पूर्ण कर मेसर्स जी.एस.एक्सप्रेस प्राईवेट लिमिटेड लखनऊ को दिनांक 24/04/2017 को कार्यादेश जारी कर कार्यारंभ किया गया। स्थल परिस्थिति के कारण एवं कार्य में हुए परिवर्तन के आधार पर विभागीय पत्र दिनांक 13/12/2018 को रूपए 7710.30 लाख की राशि की पुनरीक्षित प्रशासकीय स्वीकृति प्रदान की गई थी।
मंत्री ने बताया कि स्काईवॉक की कुल लंबाई 1470.00 मीटर है (मल्टीनेशनल पार्किंग जयस्तंभ चौक की ओर-614.00 मीटर, अम्बेडकर की ओर-590.00 मीटर एवं शास्त्री चौक पर रोटरी भाग-266.00 मीटर) स्काईवॉक की चौड़ाई मल्टीलेवल पार्किंग एवं अम्बेडकर अस्पताल की ओर-3.75 मीटर, तथा रोटरी भाग में-4.00 मीटर रखी गई है। इस कांसेप्ट में कोई परिवर्तन किया जाना प्रस्तावित नहीं है। वर्तमान में लगभग 50 प्रतिशत कार्य पूर्ण है एवं कार्य प्रगति पर है। अब तक रू. 3644.20 लाख व्यय हो चुका है। विभाग द्वारा दिनांक 21, 22 जनवरी को कोई बैठक आयोजित नहीं की गई थी अपितु महापौर रायपुर द्वारा उक्त तिथि के समीक्षा बैठक में स्काई वॉक के साथ अन्य सुविधाओं चहल पहल बनाये रखने जैसे पालिका बाजार एवं रख-रखाव हेतु राजस्व प्राप्ति के बारे में जानकारी चाही गई थी विभाग द्वारा 32 नग दुकान पूर्व से ही प्राक्कलन में सम्मिलित होना बताया गया। निर्माण कार्य विभागीय अधिकारियों एवं कंसलटेंट की देख रेख में मापदण्ड एवं गुणवत्तापूर्वक कराया जा रहा है। स्काईवॉक का निर्माण, आम नागरिकों के उपयोग के लिए किया जा रहा है। स्काईवॉक के निर्माण से आम नागरिकों में शासन/प्रशासन के प्रति कोई रोष एवं आक्रोश व्याप्त नहीं है।
अपनी ध्यानाकर्षण सूचना में सदस्य धर्मजीत सिंह एवं बृहस्पति सिंह ने कहा कि रायपुर शहर में महज 1.5 किलोमीटर में बन रहे स्काई वॉक की निर्माण लागत दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही है। कुल 45-46 करोड़ लागत अब 80 करोड़ तक बढ़ गई है, जो निर्माण आज से एक साल पहले पूर्ण हो जाना था वह अब भी 60 से 70 प्रतिशत पूरा हो पाया है, मगर बजट दो गुना बढ़ गया है। शहरवासी स्काई वॉक के उपयोग और इस पर किए जाने वाले बेहिसाब खर्च से अचंभित हैं। स्काईवॉक बनाने का निर्णय चंद अधिकारियों ने निजी कंपनी से सांठगांठ कर ले लिया और आनन-फानन में बिना सोचे समझे काम भी चालू करा दिया। ठेकेदार ड्राईंग डिजाईन को नजर अंदाज कर मनमाफिक काम करा रहा है। स्काईवॉक का निर्माण 70 प्रतिशत पूरा होने के बाद आला अफसर इसकी उपयोगिता पर प्रश्र चिन्ह खड़े करने में लगे हैं। 21-22 जनवरी 2019 को समीक्षा बैठक आयोजित कर स्काईवॉक का कांसेप्ट ही बदलने पर विचार किया गया। तथाकथित विशेषज्ञ स्काईवॉक पर बाजार लगाने, दुकान लगाने जैसे अजीबो-गरीब सुझाव देकर शहरवासियों का ध्यान हटाने में लगे हैं। काम शुरू होने के पहले न तो किसी भी प्रकार का सर्वे किया, न ही आम नागरिकों, प्रतिनिधियों का सुझाव मांगा गया। जिसके परिणाम स्वरूप स्काईवॉक अब स्काई सुरंग ही साबित हो गया है। जनता की गाढ़ी कमाई का फिजूखर्च तथा औचित्यहीन निर्माण से रायपुर शरह के आम नागरिकों में शासन/प्रशासन के प्रति रोष एवं आक्रोश व्याप्त है।  

No comments

Powered by Blogger.