Your Ads Here

एसआईटी की पूछताछ के पहले मंतूराम रमन सिंह से मिलने क्यों गए - कांग्रेस


रायपुर । प्रदेश कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता सुशील आनंद शुक्ला ने कहा कि अंतागढ़ उपचुनाव में लोकतंत्र की हत्या के प्रमुख आरोपी और इस मामले का केन्द्र बिन्दु मंतूराम पवार का एस.आई.टी. की पूछताछ के पहले पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह से मिलना इस बात को साफ करता है कि मंतूराम सलाह मशविरा करने गया था और रमन सिंह ने उसको एक घंटे तक सिखाया पढ़ाया और उसके बाद मंतूराम रमन सिंह के रट्टू तोते के समान ही जांच दल के समक्ष बयान दिया होगा। पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह बताये कि मंतूराम ने एस.आई.टी. की पूछताछ के ठीक पहले ही उनसे मुलाकात करने क्यों पहुंचा था और एक घंटे की लंबी अवधि तक मंतुराम ने रमन सिंह जी से क्या-क्या चर्चा की?
प्रदेश कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता सुशील आनंद शुक्ला ने कहा कि अंतागढ़ उपचुनाव भारत के लोकतंत्र का काला अध्याय है। इस उपचुनाव में भाजपा और षडय़ंत्रकारियों ने सत्ता बल और धन बल का दुरूपयोग कर कांग्रेस के प्रत्याशी रहे मंतूराम को नामांकन के बाद नाम वापस करवाया था। इस पूरे षडय़ंत्र में तत्कालीन मुख्यमंत्री रमन सिंह के दामाद पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी उनके पुत्र का लेन-देन का खुलासा हुआ था। अंतागढ़ उपचुनाव की घटना देश का अपनी तरह का पहला राजनैतिक षडय़ंत्र था जिसमें चुनावी हार से बचने के लिये विरोधी दल के प्रत्याशी को ही चुनाव के पहले खरीद कर मैदान से बाहर कर दिया गया था। इस प्रकार की घटनाओं की पुनरावृत्ति रोकने के लिये और देश के प्रजातांत्रिक ढांचे को बचाये रखने के लिये यह जरूरी है कि अंतागढ़ उपचुनाव के षडय़ंत्र का पर्दाफाश हो और अपराधियों को सजा मिले अन्यथा धनबल और सत्ता बल का दुरूपयोग कर षडय़ंत्रकारी देश की चुनाव प्रणाली पर प्रहार करते रहेंगे।  

No comments

Powered by Blogger.