Your Ads Here

नमामि गंगे कार्यक्रम में 136 सीवरेज आधारभूत परियोजनाओं को मंजूरी


नयी दिल्ली । नमामि गंगे कार्यक्रम के तहत कुल 136 सीवरेज आधारभूत ढांचे संबंधी परियोजनाओं को मंजूरी दी गई है और अब तक 26 परियोजनाओं को पूरा कर लिया गया है। इसके अलावा अन्य कार्यक्रम क्रियान्वयन के अंतिम चरण में हैं। आधिकारिक सूत्रों ने यहां बताया कि इस कार्यक्रम के तहत सरकार ने लघु, दीर्घ और लंबी अवधि की गतिविधियों को शुरू किया है। लघु अवधि की गतिविधियों में नदी घाटों ,अंतिम संस्कार स्थलों के विकास और नदी के उपरी स्तर की साफ सफाई पर ध्यान दिया गया है। मध्यम अवधि की गतिविधियों में मौजूदा सीवेज शोधन संयंत्रों(एसटीपी) और कचरा शोधन संयंत्रों(ईटीपी) का उन्नयन किया जा रहा है। इसके तहत नदी के किनारे बसे गांवों में साफ सफाई पर अधिक ध्यान दिया जा रहा है।
दीर्घ कालिक गतिविधियों में गंगा नदी की पूरी साफ सफाई और इसके पारिस्थतिकी तथा भौगोलिक संतुलन को बरकरार रखने पर अधिक ध्यान दिया जा रहा है।
सूत्रों ने बताया कि केन्द्र सरकार ने नमामि गंगे परियोजना को मई 2015 में पांच वर्षीय कार्यक्रम के तौर पर मंजूरी दी थी और इसकी अवधि 2020 तय की गई थी लेकिन इस अवधि के पूरा होने से पहले लक्ष्यों को हासिल करने पर अधिक ध्यान दिया जा रहा है
गंगा नदी की मुख्य धारा के समीप बसे शहरों की प्रतिदिन सीवेज उत्पादन का आंकड़़ा 2953 मिलियन लीटर है और सीवेज शोधन संयंत्रों की क्षमता अब 1305 एमएलडी से बढ़कर 1822 एमएलडी हो गई हैं। इसके अलावा गंगा बेसिन में 3577 एमएलडी क्षमता का विकास भी किया जा रहा है। 

No comments

Powered by Blogger.