Your Ads Here

आधार कार्ड नहीं होने पर मरीजों का मेकाहारा में नहीं हो रहा इलाज


  • ओपीडी से मरीज वापस हो रहे
रायपुर । प्रदेश के सबसे बड़े अस्पताल डॉ. भीमराव अम्बेडकर स्मृति चिकित्सालय में बिना आधार कार्ड के मरीजों का ओपीडी में नहीं हो रहा है। जिले के बाहर से आए मरीजों से मिली जानकारी के अनुसार 10 रुपये शुल्क देकर टोकन मिलने के बाद भी 100 नम्बर में बैठा नर्सिंग अमला सामने वाली खिड़की में पंजीयन के लिए भेजता है वहां पर बैठा कर्मी बिना आधार कार्ड के मरीजों की पर्ची नहीं बना रहा है। ज्ञातव्य है कि केन्द्र एवं राज्य शासन की कल्याणकारी योजनाओं में पंजीबध्द नहीं होने पर सामान्य मरीज चिकित्सा के लिए बिना आधार कार्ड के तकलीफ भोग रहे है। मनेन्द्रगढ़ के दिनेश साहू, राजनांदगांव की श्रीमती कंचन राठी, छुईखदान के अजय विश्वकर्मा एवं दंतेवाड़ा के विजय नेताम ने प्रतिनिधि को जानकारी देते हुए बताया कि कुछ कारणों से वे राज्य शासन एवं केन्द्र शासन की योजनाओं में पंजीबध्द नहीं हो पाये। सामान्य मरीज की तरह उन्होंने पिछले हप्ते टोकन लेकर इलाज कराना चाहा तो उन्हें ओपीडी में ड्यूटी में कार्यरत कम्प्यूटर आपरेटर द्वारा बिना आधार कार्ड के पर्ची बनाने से इंकार किया गया। उपरोक्त प्रभावितों ने आधार कार्ड की अनिवार्यता चिकित्सा सेवा जिसे की आपातसेवा में शुमार किया जाता है किये जाने पर कड़ी आपत्ति व्यक्त की है। साथ ही स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव से शासकीय चिकित्सालयों में पंजीयन बिना आधार कार्ड के भी किये जाने की मांग की है। प्रभावितों का यह भी कहना है कि जल्दी-जल्दी में घर से निकलते समय वे आधार कार्ड लाना भूल गये थे। यह बात उन्होंने 100 नम्बर में पदस्थ अमले को बताई भी थी। बावजूद इसके समय पर इलाज नहीं मिलने से उन्हें निजी चिकित्सा संस्थान की शरण में जाकर ज्यादा पैसे खर्च कर अपना इलाज करवाना पड़ा।  

No comments

Powered by Blogger.