Your Ads Here

कभी रजनीकांत को थी यह गंभीर बीमारी, यूं करें खुद का बचाव

बॉलीवुड में कई सेलेब्स हैं जिन्हें स्वास्थ्य संबंधित समस्याएं हैं उन्हीं में से एक सुपरस्टार रजनीकांत भी हैं। दरअसल, कुछ समय पहले रजनीकांत को हॉस्पिटल में भर्ती करवाया गया था और जांच के बाद पता चला कि उन्हें एलर्जीक ब्रोंकाइटिस की समस्या है। हालांकि, इलाज करवाने के बाद अब उनकी हालात में काफी सुधार आ गया है। चलिए आज हम आपको बताते हैं एलर्जीक ब्रोंकाइटिस के लक्षण, कारण और बचाव।

ब्रोंकाइटिस क्या है?

एलर्जीक ब्रोंकाइटिस सांस से जुड़ी एक आम समस्या है। इसमें फेफड़ों फेफड़ों के मार्ग में मौजूद झिल्ली में सूजन आ जाती है, जिसके कारण सांस लेने में तकलीफ होती है। समय रहते इस बीमारी का इलाज करवाने से इस समस्या को ठीक किया जा सकता है।


ब्रोंकाइटिस के प्रकार

यह दो प्रकार की होती है, तीव्र और दीर्घकालीन। तीव्र ब्रोंकाइटिस फ्लू या सर्दी-जुकाम के होने के बाद विकसित होती है। जबकि दीर्घकालीन ब्रोंकाइटिस बैक्टीरियल इंफेक्शन या अस्थमा के कारण होती है। तीव्र ब्रोंकाइटिस कुछ दिनों या कुछ हफ्तों तक रहती है लेकिन दीर्घकालीन ब्रोंकाइटिस महीने या लगातार दो साल हो सकती है।


ब्रोंकाइटिस के लक्षण

तेज बुखार हो जाना
गले में खराश रहना
शरीर में दर्द या ऐंठन होना
अक्सर उल्टी या दस्त की समस्या रहना
थकावट महसूस करना
जुकाम के कारण नाक बंद हो जाना


ब्रोंकाइटिस का कारण

धूल, मिट्टी या प्रदूषण की वजह से सांस लेने में परेशानी होने के कारण क्रॉनिक क्रॉनिक ब्रोंकाइटिस हो सकती है। साथ ही यह समस्या बैक्टीरियल या फिर वायरल इंफेक्शन के कारण भी हो सकती है। इसके अलावा अस्थमा या फिर अनुवांशिकता के कारण भी ब्रोंकाइटिस की समस्या होती है।


आयुर्वेदिक तरीके से करें इलाज
हल्दी वाला दूध

ब्रांकाइटिस की समस्या आजकल तेजी से बढ़ रही है, खासकर बच्चे इस बीमारी के शिकार जल्दी होते हैं। ऐसे में इससे राहत पाने के लिए दूध में 2 चम्मच शहद या हल्दी मिलाकर पीएं। इससे खांसी तुरंत भाग जाएगी और आपको राहत मिलेगी।


सौंठ व दालचीनी

सौंठ और दालचीनी को बराबर मात्रा में पीसें। फिर चूरे का एक चम्मच आधे गिलास पानी में डालकर उबालें। इससे गर्म-गर्म पीने से ब्रांकाइटिस से तुरंत राहत मिलती है।


हरड और शहद

हरड व सौंठ को बराबर मात्रा में पीसकर पाउडर बना लें। फिर चूरे के 1/2 चम्मच में 2 चम्मच शहद मिलाकर पीएं। इससे भी ब्रांकाइटिस से तुरंत राहत मिलती है।


अदरक का रस

2 चम्मच अदरक के रस में 2 चम्मच शहद मिलाकर पीने से भी ब्रांकाइटिस से राहत मिलती है।


लहसुन की कलियां

लहसुन की दो तीन कलियों को काट कर दूध में डाल कर उबाल लें और रात को सोने से पहले पीएं। आप चाहे तो इसमें थोड़ा-सा शहद भी मिला सकते हैं। यह एंटीबायोटिक की तरह काम करता है, जिससे यह समस्या जल्दी दूर हो जाती है।


ब्रोंकाइटिस से बचाव

प्रदूषण, धूल-मिट्टी या धूम्रपान के कारण होने वाले धुएं से दूर रहें।
अधिक से अधिक पानी पिएं क्योंकि इससे फेफड़ों में मौजूद बलगम पतली हो जाती है।
मसालेदार और तैलीय भोजन का सेवन करने से बचें।
मूलिन की चाय श्लेष्म झिल्ली को आराम देने और फेफड़ों से बलगम को हटाने में मदद करता है।

No comments

Powered by Blogger.