Your Ads Here

दलालों को पैसे खाने से रोकेगा सॉफ्टवेयर, ट्रांसपोर्ट अथॉरिटी में होंगे बड़े बदलाव


नई दिल्ली । राजधानी दिल्ली में परिवहन प्राधिकरण में बड़े बदलावों के ब्लू प्रिंट पर काम शुरू हो गया है। नई ट्रांसपोर्ट अथॉरिटी बनाने, पुरानी को नई जगहों पर शिफ्ट करने, सर्विसेज को पूरी तरह से ऑनलाइन सिस्टम में लाने पर काम चल रहा है। स्पेशल कमिश्नर (ट्रांसपोर्ट) के के दहिया ने बताया कि एक नया सॉफ्टवेयर बनाया जा रहा है। उससे दलालों की पहचान कर उनके आईपी एड्रेस को ब्लॉक कर दिया जाएगा। कुछ महीनों में सभी एमएलओ ऑफिस में टच स्क्रीन कियोस्क भी लग जाएंगी।

क्या है प्लान

विशेष आयुक्त ने बताया कि झड़ौदा कलां में नई ट्रांसपोर्ट अथॉरिटी बनाई जा रही है। मार्च तक यह तैयार हो जाएगी। वहीं, जनकपुरी अथॉरिटी को हरि नगर में शिफ्ट करने का प्लान है। हरि नगर में नया ऑफिस बनाया जाएगा। वसंत विहार अथॉरिटी का नया ऑफिस लाडो सराय में बनेगा। इन अथॉरिटीज को अपग्रेड किया जाएगा। सेंट्रल जोन एमएलओ ऑफिस अभी साउथ जोन (सराये काले खां) में है। इसे अब राजघाट के पास बनाया जाएगा। इससे करोल बाग, झंडेवालान एरिया के लोगों को फायदा होगा।

महिलाओं के लिए स्पेशल काउंटर

ट्रांसपोर्ट डिपार्टमेंट ने 3 बड़ी ट्रांसपोर्ट अथॉरिटीज द्वारका, साउथ जोन और मयूर विहार में महिलाओं के लिए स्पेशल काउंटर बनाए हैं। साउथ जोन के एमएलओ नंद गोपाल ने बताया कि महिलाओं को अब बहुत देर तक लाइनों में नहीं लगना पड़ता। स्पेशल काउंटर पर ही सभी ऐप्लीकेशन स्वीकार हो जाती हैं। साउथ जोन में रोजाना 80-100 महिलाएं ड्राइविंग लाइसेंस, आरसी व दूसरी ट्रांसपोर्ट सर्विसेज के लिए आ रही हैं। अब दूसरी अथॉरिटीज में भी महिलाओं के लिए स्पेशल काउंटर बनाने की तैयारी है।

डीएल को किया जाएगा अपग्रेड

ड्राइविंग लाइसेंस और आरसी कॉर्ड अभी लाइफ पूरी होने से पहले ही खराब हो जाता है। अब कॉर्ड की च्ॉलिटी को सुधारा जाएगा। इसमें नए फीचर जोड़े जाएंगे। ट्रांसपोर्ट सर्टिफिकेट में ऑनलाइन साइन का भी प्रावधान किया गया है।

हाथों हाथ मिलेगा लाइसेंस

ट्रांसपोर्ट अथॉरिटी में लाइनों को खत्म करने के लिए टोकन सिस्टम लागू किया जाएगा। हर ऑफिस में हेल्प डेस्क होगी। वहां पता चलेगा कि कौन सी सर्विस के लिए कहां पर ऐप्लीकेशन देनी है। लर्निंग लाइसेंस के लिए टच स्क्रीन पर टेस्ट होगा। हेल्प डेस्क पर इसके बारे में भी पहले जानकारी दी जाएगी। टेस्ट पास करने के बाद हाथों-हाथ लाइसेंस दे दिया जाएगा। हर एमएलओ ऑफिस में महिलाओं के लिए अलग काउंटर होंगे। कॉफी और कोल्ड ड्रिंक के लिए वेंडिंग मशीनें भी लगाई जाएंगी।

ड्राइविंग लाइसेंस टेस्ट ऑटोमेटेड ट्रैक पर

योजना है कि 1 अप्रैल से सभी अथॉरिटीज में ड्राइविंग लाइसेंस का टेस्ट ऑटोमेटेड ड्राइविंग टेस्ट ट्रैक पर हो। टेस्ट का रिजल्ट ऑटोमेटेड सिस्टम पर बेस्ड होगा और इसमें इनसानी दखल नहीं होगा। अभी सराये काले खां अथॉरिटी में ऑटोमेटेड ड्राइविंग टेस्ट ट्रैक बनाया गया है। विश्वास नगर, शकूर बस्ती, मयूर विहार, झड़ौदा, राजा गार्डन आदि में भी ट्रैक बन रहाा है। टेस्ट की विडियो रिकॉर्डिंग भी होगी।

पिन कोड सिस्टम

ट्रांसपोर्ट डिपार्टमेंट ने पिन कोड सिस्टम लागू किया है। लर्निंग लाइसेंस के लिए ऑनलाइन अप्लाइ करने पर पिन कोड भरते ही पता चल जाता है कि कौन सी अथॉरिटी में जाकर टेस्ट देना है। जानकारों का कहना है कि जाति प्रमाण पत्र, राशन कार्ड समेत दूसरी सर्विसेज के लिए भी इसी तरह का सिस्टम होना चाहिए, ताकि पिन कोड के जरिए लोगों को पता चल सके कि कौन से ऑफिस में जाना है।

No comments

Powered by Blogger.