जीभ का रंग भी खोलता है सेहत से जुड़े राज, जानें कितने स्वस्थ है आप



जीभ यानि जुबान, जो आपको स्वाद का आभास कराती है। अक्सर खाना खाने के बाद जीभ पर कुछ न कुछ जम जाता है और उसका रंग बदल जाता है लेकिन आपने सोचा है ऐसा क्यों होता है। दरअसल, आपकी जीभ आपके सेहत का हाल बताती है। जी हां, अपनी जीभ के बदले रंग से आप जान सकते हैं कि आपको कौन-सी बीमारी है।

कैसा होता है स्वस्थ/सामान्य जीभ का रंग?

स्वस्थ जीभ का रंग हल्का गुलाबी है। जबकि जीभ पर चढ़ी हल्की सफेद परत भी नार्मल मानी जाती है। मगर जीभ का रंग ज्यादा सफेद, लाल या काला होना बीमारियों का संकेत है।


जीभ पर काले धब्बो का कारण है डायबिटीज

अगर आपकी जीभ पर काले धब्बे पड़ गए है तो यह शरीर में खून की कमी का संकेत हो सकता है। इतना ही नहीं, कई बार डायबिटीज के कारण भी जीभ पर काले धब्बे पड़ने शुरू हो जाते हैं। इसके अलावा मुंह में बैक्टीरिया फैलने की वजह से भी जीभ पर काले रंग के धब्बे पड़ने लगते हैं।


यीस्ट इंफेक्शन का संकेत है सफेद रंग

अगर आपकी जीभ सफेद हो चुकी है या इस पर सफेद धब्बे दिखाई देते हैं तो आप फंगल व यीस्ट इंफेक्शन के शिकार हैं। इसका ये भी मतलब हो सकता है कि आप पेट से जुड़ी समस्याएं, ल्यूकोप्लाकिया या फ्लू के शिकार हों।

पीली जीभ

अगर आपको डाइडेशन या लिवर से जुड़ी कोई समस्या है तो उसके कारण जीभ का रंग पीला हो सकता है। साथ ही पीली जीभ होना खून में आयरन की कमी की ओर इशारा करती है। इससे जल्दी थकावट जैसी समस्याओं से भी जूझना पड़ सकता है।

जब जीभ का रंग हो जाए पेल

शरीर में पोषण की कमी होने के कारण जीभ का रंग पेल कलर का हो जाती है। ऐसे में आपको अपनी डाइट में हैल्दी चीजों को शामिल करना चाहिए।


ब्राउन रंग

कैफीन की मात्रा अधिक लेने के कारण जीभ का रंग ब्राउन होना आम बात है। वहीं अधिक धूम्रपान करने की वजह से भी जीभ का रंग भी भूरा हो जाता है लेकिन बावजूद इसके अगर आपकी जीभ का रंग ऐसा हो आपको डॉक्टर से संपर्क करें।

गहरी लाल जीभ

गहरी लाल जीभ शरीर में पोषक तत्वों जैसे आयरन और विटामिन B-12 की कमी की ओर इशारा करती है। अगर आपकी जीभ का निचला हिस्सा गहरा लाल है तो ये आंतों में गर्मी की ओर इशारा करती है।

जीभ का रंग काला होना

जब जीभ पर अधिक बैक्टीरिया जमा हो जाते हैं तो उसका रंग काला पड़ जाता है। ऐसे में आपको तुरंत डॉक्टर से चेकअप करवाना चाहिए।


जीभ पर जमी सफेद परत साफ करने के घरेलू टिप्स

नारियल का तेल

एंटीसेप्टिक गुणों वाले नारियल के तेल से दिन में 2 बार कुल्ली करें। रोजाना इसका इस्तेमाल जीभ से सभी बैक्टीरिया को मार कर सफेद परत को साफ कर देगा।

लहसुन

रोजाना 2-3 कच्चे लहसुन को अच्छी तरह चबा कर खाने से जीभ पर जमी सफेद परत से छुटकारा पा सकते है। इसमें मौजूद एंटीमाइक्रोबियल गुण आपको मुंह की बदबू और इंफेक्शन से भी बचाएंगे।

बेकिंग सोडा

रोजाना बेकिंग सोडा और नींबू का रस मिक्स करके ब्रश की मदद से जीभ को साफ करें। यह आपके मुंह के पीएच स्तर को स्थिर बनाएं रखता है, जिससे जीभ पर सफेद परत नहीं जमती।

नमक

जीभ पर थोड़ा-सा नमक छिड़क कर उसे ब्रश की सहायता से कुछ मिनट के लिए स्क्रब करें। इसके बाद गुनगुने पानी में 1/2 चम्मच नमक डालकर उससे कुल्ला कर लें। इसमें मौजूद एंटीबैक्टीरियल गुण आपकी जीभ से सफेद परत को साफ कर देंगे।