आम जनता पर पड़ी महंगाई की मार, बिना सब्सिडी वाले गैस सिलेंडर की कीमत 1000 के पार



कर्नाटक । जनता पर एक बार फिर से महंगाई की मार पड़ी है। जहां पहले पेट्रोल-डीजल के दामों के लकेर लोग परेशान थे और अब यहीं हाल गैस सिलैडर को लेकर भी होने वाला है। दरअसल कर्नाटक के करीब सभी इलाके में बिना सब्सिडी वाले घरेलू सिलेंडर (14.2 किलो) की कीमत 1000 रुपये के आसपास पहुंच चुकी है वहीं, बिदर में एक सिलेंडर 1015.50 रुपये में बेचा जा रहा है।

बेंगलुरू में बिना सब्सिडी वाला घरेलू सिलेंडर को 941 रुपये में मिल रहा है। मंगलुरू (बॉटलिंग प्लांट के नजदीक) सिलेंडर 921 रुपये में बेचा जा रहा है। इसी तरह हुबली में 962 रुपये और बेलागवी में 956 रुपये में एक सिलेंडर उपभोक्ताओं को मिल रहा है। जबकि, इसी साल अप्रैल महीने में बिना सब्सिडी वाले घरेलू सिलेंडर की कीमत बेंगलुरू में 654 रुपये, मंगलुरू में 630 रुपये, हुबली में 670 रुपये और बेलागवी में 666 रुपये थी। बिदर में उस समय यह कीमत 721 रुपये थी।


3 साल पहले 350 का सिलेंडर पहुंचा 1000 तक
बता दें कि घरेलू एलपीजी सिलेंडर की कीमत पेट्रोल डीजल की तरह प्रतिदिन नहीं, बल्कि महीने में तय की जाती है| पेट्रोलियम मंत्रालय ने वर्ष 2015 में डीबीटी स्कीम लागू की थी। इस स्कीम के तहत उपभोक्ताओं को अब गैस खरीदने वक्त ही पूरे पैसे देने होते हैं। बाद में उनके खाते में सब्सिडी के पैसे जमा होते हैं। तीन साल पहले करीब 350 रुपये में मिलने वाले गैस सिलेंडर की कीमत अब 1000 रुपये तक पहुंच चुकी है| हालांकि, सब्सिडी की रकम भी गैस सिलेंडर का मूल्य बढ़ने के अनुसार बढ़ती है|

1 नवम्बर को बढ़े थे दाम
गौरतलब है कि 1 नवम्बर को सब्सिडी वाले रसोई गैस सिलेंडर की कीमत 2.94 रुपए प्रति सिलेंडर बढ़ाई गई थी। इंडियन ऑयल कॉर्प (आईओसी) ने बयान में कहा था कि 14.2 किलो के सब्सिडीयुक्त एलपीजी सिलेंडर का दाम मध्य रात्रि से 502.40 रुपए से बढ़कर 505.34 रुपए प्रति सिलेंडर हो जाएंगे। सब्सिडी वाले रसोई गैस सिलेंडर के दाम में जून से यह छठी वृद्धि हुई थी।