ब्रेस्ट की हर गांठ नहीं होती कैंसर का संकेत




महिलाओं में 30 साल की उम्र के बाद कई तरह के शारीरिक बदलाव आने शुरू हो जाते हैं। हार्मोंस में आए बदलाव के कारण बढ़ती उम्र में कई बार ब्रेस्ट में गांठ महसूस होने लगती है। जिसे ज्यादातर औरतेें कैंसर समझ लेती हैं लेकिन हर तरह की गांठ कैंसर नहीं होती। कुछ लोग तो इसे बड़ी बीमारी समझ कर जांच करवाने से भी कतराने लगते हैं कि अब कैंसर की चपेट में आ चुके हैं और डॉक्टरी सलाह का कोई फायदा नहीं। इस तरह की लापरवाही छोटी-सी बीमारी बड़ी बन सकती है जबकि हर गांठ ब्रेस्ट कैंसर नहीं होता है।

आपको इस तरह का संकेत दिखाई दे तो तुरंत डॉक्टर से जांच करवाएं। अनदेखी करने पर बीमारी बढ़ सकती है।

क्या है ब्रेस्ट की गांठ?
पीरियड्स की गड़बड़ी, प्रेग्नेंसी, पीरियड्स का बंद होना,हार्मोंस में बदलाव, ब्रेस्ट फीडिंग के दौरान दूध का रूक जाना जैसे कई कारणों से ब्रेस्ट पर गांठ पड़ जाती है। ब्रेस्ट कैंसर का प्रमुख लक्षण भी कैंसर हैं तो लोग लड़कियां इसे ब्रेस्ट कैंसर मान लेती हैं। ब्रेस्ट टीशू में फैट बढ़ जाने से भी गांठ पड़ जाती है जबकि ये गांठ सामान्य हो सकती है।

जरूर करवाएं जांच
ब्रेस्ट पर किसी भी तरह की गांठ दिखाई दे तो इसकी जांच जरूर करवाएं, जिससे पता लगाने में आसानी हो जाएगी कि यह कैंसर है या कुछ और। ज्यादातर मामलों में यह दर्द रहित होती है।

ब्रेस्ट कैंसर के कारण
ब्रेस्ट कैंसर होने पर महसूस होने वाली गांठ दर्द रहित होती है। इसके आसपास सूजन होने लगती है और समय के साथ-साथ इसका आकार भी बढ़ने लगती है। कई बार इससे रिसाव भी होता है। ब्रेस्ट कैंसर से पड़ने वाली गांठ से कई खून भी निकलने लगता है।

मर्द भी हो सकते हैं ब्रेस्ट कैंसर का शिकार
इस कैंसर की शिकार ज्यादातर औरतें ही होती हैं लेकिन यह कैंसर मर्दों को भी हो सकता है। हालांकि इसके मामले बहुत कम दिखाई देते हैं। बीमारी,बढ़ती उम्र या और वजहों से भी मर्दों में कैंसर हो सकता है।