गठबंधन की उम्मीद, कहा- 2019 में विपक्षी पार्टियां आएंगी साथ








नई दिल्ली। आगामी चार राज्यों में भाजपा को धूल चटाने और जीत का सपना संजो रही कांग्रेस को भले ही बसपा सुप्रीमो मायावती ने करारा झटका दे दिया है लेकिन इसके बावजूद राहुल गांधी को 2019 में मायावती के साथ आने की उम्मीद है। उन्होंने कहा कि पार्टी आगामी चुनावों में अधिक सीटों पर जीत दर्ज करेगी।



बसपा के अलग लडऩे से नहीं पड़ेगा असर

कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि मध्य प्रदेश के आगामी विधानसभा चुनाव में उनकी पार्टी के साथ गठबंधन नहीं करने के बसपा प्रमुख मायावती के फैसले का कांग्रेस की संभावनाओं पर असर नहीं होगा। हालांकि उन्होंने यह भी कहा कि 2019 के लोकसभा चुनाव में बसपा साथ आ सकती है। मायावती ने कुछ दिनों पहले ही कहा था कि वह मध्यप्रदेश और राजस्थान के विधानसभा चुनावों में कांग्रेस के साथ गठबंधन नहीं करेगी। उनके फैसले को भाजपा के खिलाफ विपक्ष के महागठबंधन बनाने के प्रयासों के लिये बड़ा झटका माना जा रहा है।






विधानसभा चुनावों में कांग्रेस की होगी जीत

राहुल गांधी ने एक कार्यक्रम में कहा कि मुझे नहीं लगता कि मध्य प्रदेश में बसपा के गठबंधन नहीं करने से हमारे ऊपर कोई विपरीत असर हो रहा है। उन्होंने उम्मीद जताई कि मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, राजस्थान और तेलंगाना के आगामी विधानसभा चुनावों में कांग्रेस जीत हासिल करेगी। कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि राज्य में गठबंधन और केंद्र के स्तर पर गठबंधन में बहुत अंतर होता है। मायावती जी ने इसका संकेत दिया है।






राज्य में कांग्रेस का रुख लचीला

राहुल ने कहा कि राज्य में हमारा रुख लचीला था। असल में प्रदेश के कुछ नेताओं की तुलना में मेरा रुख ज्यादा लचीला था। हम बातचीत कर रहे थे लेकिन मुझे लगता है कि उन्होंने अकेले चुनाव लडऩे का फैसला कर लिया था। उन्होने कहा कि मेरा मानना है कि राष्ट्रीय चुनाव में विपक्षी पार्टियां साथ आएंगी और खासकर उत्तर प्रदेश में साथ आएंगी। मायावती ने कहा था कि राहुल गांधी और संप्रग प्रमुख सोनिया गांधी गठबंधन के पक्ष में थे लेकिन कांग्रेस के कुछ ‘वरिष्ठ नेताओं’ ने तालमेल की संभावनाओं को विफल करने का काम किया।