सोमवार, 14 सितंबर 2020

ऑक्सीजन की आवश्यकता वाले कोरोना मरीजों का अनिवार्य रूप से कराए सीटी स्कैन: मंत्री अकबर



  • केन्द्र सरकार के गाइडलाइन के अनुसार जांच रिपोर्ट नेगेटिव आने पर मरीजों को किया जाए डिस्चार्ज

  • वनमंत्री ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से राजनांदगांव जिले में स्वास्थ्य व्यवस्था की समीक्षा की


रायपुर । वन एवं परिवहन और राजनांदगांव जिले के प्रभारी मंत्री श्री मोहम्मद अकबर ने आज यहां अपने शासकीय निवास कार्यालय से वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से जिले में स्वास्थ्य व्यवस्था की समीक्षा की। श्री अकबर ने कहा कि राज्य सरकार कोरोना कोविड-19 महामारी के रोकथाम के लिए काफी गंभीर है। उन्होंने कोरोना के बढ़ रहे मरीजों के संबंध में समीक्षा की और कहा कि सभी ऑक्सीजन की आवश्यकता वाले मरीजों का अनिवार्य रूप से सीटी स्कैन कराया जाए। उन्होंने कहा कि जिन कोरोना केयर सेंटर में सीटी स्कैन की व्यवस्था नहीं है वहां के मरीजों को एम्बुलेंस के जरिए जिला अस्पताल में ले जाकर सीटी स्कैन कराया जाए। श्री अकबर ने कहा कि भारत सरकार के गाइडलाइन के अनुसार कोरोन मरीजो को तीन दिन तक बुखार नहीं आने और 10 दिन केयर सेंटर में रखने के बाद सात दिन तक होम आइसोलेशन के लिए सलाह देकर डिस्चार्ज किया जाए। वीडियो कान्फ्रेंसिंग में राजनांदगांव के कलेक्टर श्री टोपेश्वर वर्मा, जिला चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी सहित जिला स्तर के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

मंत्री श्री अकबर ने वीडियों कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से हुए समीक्षा बैठक के दौरान मेडिकल कॉलेज कोविड केयर सेंटर, कोविड केयर सेंटर खैरागढ़ और कोविड केयर सेंटर डोंगरगांव में उपचार करा रहे मरीजों से चर्चा कर वहां की व्यवस्था के संबंध में जानकारी प्राप्त की। मेडिकल कॉलेज कोविड सेंटर में इलाज करा रहे श्री चन्द्रशेखर घृतलहरे ने कहा कि वहां की व्यवस्था से वे संतुष्ट है। वहां साफ-सफाई, समय पर नास्ता और खाना मिल रहा है। डॉक्टरों और मेडिकल स्टॉफ द्वारा भी अच्छे से उपचार किया जा रहा हैं। समय-समय पर डॉक्टरो द्वारा परीक्षण की जाती है। खैरागढ कोरोना केयर सेंटर में इलाज करा रहे श्री राजू पटवा ने भी चर्चा के दौरान मंत्री को बताया कि वे वहां की व्यवस्था से संतुष्ट है। डोगंरगांव कोराना सेंटर में मरीज श्री प्रियेस जैन से चर्चा के दौरान सेंटर में खान-पान, मास्क, सेनेटाइजर, पीपीईकीट अव्यवस्था के संबंध में बताए जाने पर तत्काल व्यवस्था दुरूस्थ कराने कलेक्टर को निर्देशित किए। उन्होंने कहा कि प्रभारी अधिकारियों को नियमित रूप से कोविड केयर सेंटर का दौरा करने और मरीजों से उचित माध्यम से मिलकर उनका हौसला अफजाई करने के भी निर्देश दिए।

वीडियों कांफ्रेसिंग के माध्यम से हुए समीक्षा बैठक में अधिकारियों ने बताया कि जिलें में कुल 15 कोविड केयर सेंटर स्थापित किए हैं मेंडिकल कॉलेज कोविड केयर सेंटर में 15 वेन्टिलेटर उपलब्ध है। जिसमें आक्सीजन की जरूरत वाले मात्र दो मरीज ही तीन दिन से वेन्टिलेटर पर है। जिले के अन्य कोरोना केयर सेंटर में गंभीर लक्षण वाले मरीजों को तत्काल मेडिकल कॉलेज राजनांदगांव केयर सेंटर में रिफर कर दिया जाता है। वर्तमान में जिले में कोरोना मरीजों के लिए 1345 बिस्तर उपलब्ध हैं। अभी एक्टिव मरीजों की संख्या 772 है। जिलें में आरटीपीसीआर, ट्रू-नॉट और रैपिड एन्टिजन जांच के जरीए 47 हजार 719 सैम्पल लिए गए हैं। इनमें चार हजार 786 मरीज कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे। पीपीईकिट, दवाईयां पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध है। मंत्री श्री अकबर ने कोरोना स्थिति को ध्यान में रखते हुए मेन पावर बढ़ाने डीएमएफ मद का उपयोग करने के निर्देश अधिकारियों को दिए।

0 comments:

टिप्पणी पोस्ट करें

Top Ad 728x90