शुक्रवार, 14 अगस्त 2020

पत्रकारों ने अपने विचारों और लेखनी से समाज को दी रचनात्मक दिशा : भूपेश बघेल


मुख्यमंत्री बघेल ने वरिष्ठ पत्रकार ई.वी.मुरली को वसुंधरा सम्मान से सम्मानित किया

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने आज यहां अपने निवास कार्यालय में आयोजित संक्षिप्त और गरिमामय समारोह में वरिष्ठ पत्रकार और अंग्रेजी दैनिक 'हितवाद के स्थानीय सम्पादक ई. वी. मुरली को 20 वें वसुंधरा सम्मान से सम्मानित किया। स्वर्गीय देवी प्रसाद चौबे की स्मृति में स्थापित यह सम्मान विगत 20 वर्षों से लोकजागरण के लिए दिया जा रहा है। वसुंधरा सम्मान समारोह का आयोजन स्वर्गीय देवी प्रसाद चौबे की पुण्यतिथि के अवसर पर किया जाता है। मुख्यमंत्री ने मुरली को शॉल, श्रीफल और प्रशस्ति पत्र प्रदान कर सम्मानित किया। कार्यक्रम के आरंभ में मुख्यमंत्री बघेल ने स्वर्गीय देवी प्रसाद चौबे के चित्र पर माल्यार्पण कर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की।
 समारोह की अध्यक्षता संस्कृति मंत्री अमरजीत भगत ने की। लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी मंत्री गुरू रूद्र कुमार, विधायक मोहन मरकाम, स्वर्गीय देवीप्रसाद चौबे के पुत्र प्रदीप चौबे, कृषि मंत्री रविन्द्र चौबे, वरिष्ठ पत्रकार रमेश नैयर, छत्तीसगढ़ राज्य वेयर हाउसिंग कार्पोरेशन के अध्यक्ष अरूण वोरा, इंदिरा कला एवं संगीत विश्वविद्यालय खैरागढ़ की कुलपति श्रीमती ममता चंद्राकर, सेवानिवृत्त आईएएस अधिकारी बी.के.एस.रे, साहित्यकार और वरिष्ठ पत्रकार गिरीश पंकज और दिवाकर मुक्तिबोध, मुख्यमंत्री के सलाहकार रूचिर गर्ग इस अवसर पर उपस्थित थे। संस्कृति विभाग छत्तीसगढ़ शासन एवं चतुर्भुज मेमोरियल फाउन्डेशन के सहयोग से लोकजागरण की पत्रिका 'वसुंधराÓ द्वारा इस समारोह का आयोजन किया गया। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने स्वर्गीय देवी प्रसाद चौबे के व्यक्तित्व और कृतित्व पर प्रकाश डालते हुए कहा कि स्वर्गीय चौबे सही मायने में ठेठ छत्तीसगढिय़ा थे। सहज, सरल और मिलनसार स्वर्गीय चौबे ने हमेशा किसानों, मजदूरों और गरीबों के हित की लड़ाई लड़ी। उनकी स्मृति को चिरस्थायी बनाने के लिए हर वर्ष पत्रकारों को वसुंधरा सम्मान प्रदान किया जाता है। उन्होंने न सिर्फ ग्रामीण क्षेत्र में ही कार्य किए अपितु दुर्ग जिले की राजनीति को भी प्रभावित किया।
मुख्यमंत्री ने देश और समाज के लिए पत्रकारों के योगदान की चर्चा करते हुए कहा कि पत्रकारों ने देश और समाज के लिए अनेक उल्लेखनीय कार्य किए हैं। अपने विचारों और अपनी लेखनी से उन्होंने समाज को रचनात्मक दिशा देने का काम किया है। ऐसे पत्रकारों का नाम देश के इतिहास में स्वर्ण अक्षरों में लिखा जाता है। उन्होंने कहा कि बहुत से लोग खबरों के लिए अखबारों और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया का सहारा लेते हैं, लेकिन हमारी वर्तमान पीढ़ी मोबाइल पर सोशल मीडिया को देखकर अपनी मानसिकता बनाती है। उन्होंने कहा कि प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के लिए अनेक नियामक कानून हैं, लेकिन सोशल मीडिया के लिए ऐसी कोई व्यवस्था नही है। सोशल मीडिया के लिए न किसी प्रशिक्षण की जरूरत है और न किसी मर्यादा की। सोशल मीडिया पर लोगों को ट्रोल करने के बढ़ते चलन पर चिन्ता व्यक्त करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि सोशल मीडिया पर कुछ लोगों की नकारात्मक टिप्पणियां लोगों को हतोत्साहित करती हैं, इसीलिए अनेक अच्छे विचारक और संवेदनशील लोग ट्वीटर और फेसबुक जैसे सोशल मीडिया प्लेटफार्म को छोड़ रहे हैं। उन्होंने कहा कि सोशल मीडिया से वर्तमान पीढ़ी दिग्भ्रमित हो रही है, इससे कैसे बचा जा सकता है, इस पर गंभीरता से विचार करने की आवश्यकता है। ऐतिहासिक तथ्यों के साथ छेडख़ानी नहीं होनी चाहिए। यदि कोई इतिहास बनाता है, तो यह अच्छी बात है, लेकिन इतिहास बदलने की कोशिश दुर्भाग्य जनक है।
संस्कृति मंत्री अमरजीत भगत ने समारोह की अध्यक्षता करते हुए कहा कि स्वर्गीय देवी प्रसाद चौबे ने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की विचारधारा को गांवों तक पहुंचाने का काम किया। उन्होंने पदयात्रा की, साहित्य में भी उल्लेखनीय योगदान दिया। वे अविभाजित मध्यप्रदेश में विधायक भी रहे। उनकी पुण्यतिथि पर वसुंधरा सम्मान का आयोजन किया जाता है। उन्होंने कहा कि पिछले वर्ष मुख्यमंत्री बघेल की घोषणा के परिपालन में 14 अगस्त को संस्कृति विभाग के सहयोग से वसुंधरा सम्मान का आयोजन किया जा रहा है। वसुंधरा सम्मान निर्णायक समिति के अध्यक्ष और वरिष्ठ पत्रकार रमेश नैयर ने कहा कि स्वर्गीय देवी प्रसाद चौबे ने उस भारतीय परम्परा का निर्वाह किया जिसमें राजनीति और पत्रकारिता एक साथ चला करते थे। वसुंधरा सम्मान से सम्मानित ई.वी. मुरली ने कहा कि महात्मा गांधी के नमक सत्याग्रह आंदोलन का जैसा व्यापक प्रभाव देश के स्वतंत्रता संग्राम में रहा, वैसे ही मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के नेतृत्व में प्रारंभ की गई गोधन न्याय योजना के भी दूरगामी सकारात्मक प्रभाव पड़ेंगे। गोधन न्याय योजना ग्रामीण स्वावलम्बन की एक बड़ी योजना सिद्ध होगी।   इस कार्यक्रम का संचालन वसुंधरा सम्मान समिति के संयोजक विनोद मिश्र ने किया। आयोजन समिति के अध्यक्ष अरुण श्रीवास्तव भी इस अवसर पर उपस्थित थे। मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर वसुंधरा पत्रिका के 49 वें अंक का लोकार्पण भी किया। समारोह का आयोजन कोरोना संक्रमण की रोकथाम और बचाव की गाईड लाइन का पालन करते हुए किया गया।

0 comments:

टिप्पणी पोस्ट करें

Top Ad 728x90