शुक्रवार, 21 अगस्त 2020

कैम्पा : वन तथा वन्यप्राणियों के संवर्धन और संरक्षण की दिशा में नवाचार पर जोर



वार्षिक कार्ययोजना समय-सीमा में तैयार करने के निर्देश


रायपुर । वन मंत्री मोहम्मद अकबर के निर्देशन में छत्तीसगढ़ प्रतिकरात्मक वनरोपण, निधि प्रबंधन एवं योजना प्राधिकरण (कैम्पा) के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री व्ही.श्रीनिवास राव विगत दिवस बिलासपुर में आयोजित वनवृत्त स्तरीय कार्यशाला में शामिल हुए। इस दौरान उन्होंने कैम्पा मद के कार्यों की प्रगति की विस्तृत समीक्षा की।

बिलासपुर वनवृत्त के अंतर्गत कैम्पा की वार्षिक कार्ययोजना वर्ष 2018-19 और वर्ष 2019-20 के विभिन्न मदों नरवा विकास, वानिकी प्रबंधन तथा वन्यप्राणी प्रबंधन के तहत 277 करोड़ रूपए के कार्यों में से अब तक लगभग 90 करोड़ रूपए की राशि व्यय हुई है। इनमें धीमी प्रगति पर उन्होंने तीव्र असंतोष व्यक्त किया और सभी अधूरे कार्यों को विशेष गति के साथ गुणवत्ता सहित शीघ्र पूर्ण करने के लिए सख्त निर्देश दिए।

कार्यशाला में श्री राव ने बिलासपुर वनवृत्त के सभी वन मंडलाधिकारियों को निर्देशित किया कि कैम्पा मद के अंतर्गत वर्ष 2021-22 की वार्षिक कार्ययोजना समय-सीमा में तैयार कर ली जाए, ताकि इसमें स्वीकृत कार्यों के सही ढंग से क्रियान्वयन में अनावश्यक विलम्ब न हो। कार्यशाला में कैम्पा के अंतर्गत वर्ष 2021-22 की वार्षिक कार्ययोजना में प्रस्तावित कार्यों और इसे तैयार करने के बारे में विस्तार से अवगत कराया गया। इस दौरान वन मंडलाधिकारियों को कैम्पा अधिनियम के विभिन्न मार्गदर्शी सिद्धांतों के अनुसार वानिकी प्रबंधन, वन्यप्राणी प्रबंधन, नरवा विकास तथा वनों के संरक्षण व संवर्धन संबंधी कार्यों को अधिक से अधिक शामिल करने के लिए जोर दिया गया। साथ ही वन तथा वन्यप्राणियों के संवर्धन और संरक्षण की दिशा में नवाचार के लिए भी आवश्यक निर्देश दिए गए। इसके अलावा वर्ष 2021-22 की वार्षिक कार्ययोजना को सही ढंग से तैयार करने के लिए अधिकारियों के विभिन्न शंकाओं का समाधान किया गया। कार्यशाला में कैम्पा मद के कार्यों के लिए लेखा संधारण के संबंध में भी मार्गदर्शन दिया गया। कार्यशाला में बिलासपुर, रायगढ़, जांजगीर, मरवाही, कोरबा, कटघोरा, धरमजयगढ़ के वनमंडलाधिकारी और वनपरिक्षेत्र अधिकारी उपस्थित थे।

0 comments:

टिप्पणी पोस्ट करें

Top Ad 728x90