बुधवार, 29 जुलाई 2020

पहली तिमाही में इंडिगो को 2,844 करोड़ रुपये का नुकसान


नई दिल्ली। कोविड-19 महामारी के बीच उड़ानों पर प्रतिबंध से देश की सबसे बड़ी विमान सेवा कंपनी इंडिगो को चालू वित्त वर्ष की 30 जून को समाप्त पहली तिमाही में 2,844 करोड़ रुपये का शुद्ध नुकसान हुआ है। कंपनी के निदेशक मंडल की बैठक में आज वित्तीय परिणामों को मंजूरी प्रदान की गई। पहली तिमाही में समग्र आधार पर एयरलाइन का राजस्व 88.31 प्रतिशत घटकर 1,143.8 करोड़ रुपये रह गया। पिछले साल इसी तिमाही में उसने 9,786.9 करोड़ रुपये का राजस्व कमाया था। इस दौरान उसका कुल व्यय 50 फीसदी से ज्यादा घटकर 3,986.4 करोड़ रुपये रहा। कंपनी को शुद्ध रूप से 2,844.6 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ।
कोविड-19 के कारण करीब दो महीने तक यात्री उड़ानें पूरी तरह ठप रहीं। घरेलू यात्री उड़ानें 25 मई से दुबारा शुरू की गई हैं, लेकिन अभी सीमित उड़ानों की ही अनुमति दी गई हैं। जितनी उड़ानें उपलब्ध हैं उनमें भी यात्रियों की संख्या कम है। इंडिगो के मुख्य कार्यकारी अधिकारी रोनोजॉय दत्ता ने परिणामों पर प्रतिक्रिया देते हुये कहा कि विमानन क्षेत्र इस समय संकट के दौर से गुजर रहा है। प्रतिबंधों के कारण तिमाही के दौरान उपलब्ध सीट-किलोमीटर में 90.9 फीसदी की गिरावट आई है जबकि यात्री-किलोमीटर 93.8 प्रतिशत घट गया है। पैसेंजर लोड फैक्टर यानी भरी सीटों के अनुपात में 27.6 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गई।
कंपनी ने बताया कि उसके पास 18,449.8 करोड़ रुपये की नकदी उपलब्ध है जिसमें 7,527.6 करोड़ रुपये की मुक्त नकदी है। कंपनी ने लागत कम करने के लिए 10 प्रतिशत कर्मचारियों की छँटनी की घोषणा की है। साथ ही मई में उसने वेतन में 25 प्रतिशत तक की कटौती की थी तथा सितंबर में 35 फीसदी तक की और कटौती की जायेगी।

0 comments:

टिप्पणी पोस्ट करें

Top Ad 728x90