शनिवार, 14 मार्च 2020

पेट्रोल-डीजल के दाम 40 फीसदी घटाएं : कांग्रेस

नई दिल्ली। कांग्रेस ने कहा है कि अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल के दाम गिरने पर उसका लाभ उपभोक्ताओं को देने के बजाय सरकार ने आज पेट्रोल और डीजल पर उत्पाद शुल्क में तीन रुपये प्रति लीटर की बढ़ोतरी कर दी जो देश की जनता के साथ अन्याय है। कांग्रेस प्रवक्ता अजय माकन ने शनिवार को यहां पार्टी मुख्यालय में पत्रकारों को संबोधित करते हुए कहा कि सरकार को बढ़े उत्पादन शुल्क को वापस लेना चाहिए और पेट्रोल एवं डीजल को वस्तु एवं सेवाकर (जीएसटी) के दायरे में लाकर इनकी कीमत तुरंत प्रभाव से 40 फीसदी तक घटानी चाहिए। उन्होंने कहा कि विश्व बाजार में कच्चे तेल के दाम गिरे हैं, उसी हिसाब से देश में पेट्रोल, डीजल, रसोई गैस तथा सीएनजी की कीमतें कम होनी चाहिए। सरकार को इन घटी दरों पर अनाप-शनाप लाभ कमाने की बजाए इसका सीधा फायदा देश की जनता को देना चाहिए और पेट्रोलियम पदार्थों की कीमतें कम करनी चाहिए। विश्व बाजार में कच्चे तेल की कीमत आज 35 डॉलर प्रति बैरल से नीचे आ गयीं हैं लेकिन हमारी सरकार उसका फायदा जनता को देने की बजाय खुद मुनाफा कमा रही है औऱ लोगों की जेब पर बोझ डाल रही है।
कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा कि वर्ष 2004 के जून-जुलाई में अंतरराष्ट्रीय बाजार में तेल का मूल्य 35 डॉलर के करीब था तो हमारे यहां डीजल का 22 रुपए 74 पैसा प्रति लीटर तथा पेट्रोल 35 रुपए 71 पैसे लीटर था। एलपीजी का सिलेंडर 281 रुपए 60 पैसे था लेकिन आज उससे लगभग तीन गुना ज्यादा दाम पर डीजल मिल रहा है। डीजल 62 रुपए 81 पैसे और पेट्रोल 70 रुपए प्रति लीटर से ज्यादा पर मिल रहा है। एलपीजी सिलेंडर 858 रुपए का है।

0 comments:

टिप्पणी पोस्ट करें

Top Ad 728x90