Wednesday, 12 February 2020

5जी स्पेक्ट्रम प्राइसिंग का ट्राई ने किया समर्थन

नई दिल्ली। दूरसंचार नियामक ट्राई ने 5जी स्पेक्ट्रम सहित सभी मेगाहट्र्ज के लिए स्पेक्ट्रम प्राइसिंग का बुधवार को समर्थन करते हुये कहा कि दूरसंचार उद्योग द्वारा मिली प्रतिक्रिया के आधार पर स्पेक्ट्रम का मूल्य निर्धारित किया गया है और नीलामी में भाग लेना या न लेने का निर्णय कंपनियों को लेना है। ट्राई के अध्यक्ष आर.एस. शर्मा ने एक्सपेरी कॉर्पोरेशन और इंडिया सेलुलर एंड इलेक्ट्रॉनिक्स एसोसिएशन द्वारा देश में डिजिटल रेडियो पर आयोजित एक कार्यशाला में भाग लेने के बाद स्पेक्ट्रम प्राइसिंग के बारे में पूछे जाने पर यह बात कही। उन्होंने कहा कि 5जी स्पेक्ट्रम मूल्य पर सिफारिशें दूरसंचार विभाग को सौंप दी गयी है।
5जी प्राइसिंग को अधिक बताते हुये भारती एयरटेल के इसकी नीलामी में भाग नहीं लेने के बयान के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि नीलामी में भाग लेना या न लेना किसी का अपना निर्णय हो सकता है। हितधारकों से मिली प्रतिक्रिया के आधार पर इसका मूल्य निर्धारित किया गया है। उन्होंने कहा कि नीलामी का समय सरकार को तय करना है। नये स्पेक्ट्रम बैंड के संबंध में सिफारिशों के लिए दूरसंचार विभाग ने अब तक नियामक से संपर्क नहीं किया है। एयरटेल ने कहा कि 5जी स्पेक्ट्रम का 492 करोड़ रुपये प्रति मेगाहट्र्ज मूल्य निर्धारित किया गया है और इस मूल्य पर वह आगामी नीलामी में 5जी स्पेक्ट्रम नहीं खरीदेगी। सरकार इस वर्ष अप्रैल-मई में स्पेक्ट्रम नीलामी की तैयारी कर रही है। इस नीलामी में 5जी स्पेक्ट्रम भी होगा। डिजिटल दूरसंचार आयोग स्पेक्ट्रम प्राइसिंग पर ट्राई की सिफारिशों को अनुमोदित कर चुका है और अंतिम मंजूरी के लिए इसे मंत्रिमंडल के समक्ष रखा जाना है। इससे पहले कार्यशाला में श्री शर्मा ने कहा कि डिजिटल रेडियो पर अभी सलाह मशविरा जारी है और वर्ष 2024 तक पूरे देश में डिजिटल रेडियो संचालित करने का लक्ष्य तय करने की तैयारी चल रही है। उन्होंने कहा कि सरकार रेडियो क्षेत्र में विकास पर काम कर रही है। एक्सपेरी कॉर्पोरेशन के उपाध्यक्ष अशरुफ ने कहा कि उनकी कंपनी की एच.डी. रेडियो प्रौद्योगिकी अमेरिका, कनाडा, मैक्सिको, फिलीपींस और रोमानिया सहित कई देशों में चल रही है और पिछले 18 वर्षों से इसका व्यावसायिक परिचालन किया जा रहा है। दुनिया भर में उनकी कंपनी के 2,400 रेडियो स्टेशन हैं और 6.6 करोड़ लोग उनके स्रोता हैं। उन्होंने कहा कि उनकी कंपनी सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय के रेडियो स्टेशनों को डिजिटल बनाने के दृष्टिकोण का समर्थन करता है।

No comments:

Post a Comment