Your Ads Here

स्वास्थ्य मंत्री ने मेकाहारा में किया मल्टी डिसिप्लिनरी रिसर्च यूनिट का उद्घाटन

 रिसर्च लैब से अब मिलेगी बीमारियों के कारणों व उनके उपचार की सही व सटीक जानकारी

रायपुर। स्वास्थ्य मंत्री टी.एस.सिंहदेव ने आज मेडिकल कॉलेज हॉस्पीटल रायपुर में 5 करोड़ की लागत से बने 'बहु-विषयक अनुसंधान इकाईÓ (मल्टी डिसिप्लिनरी रिसर्च यूनिट (एमआरयू)) का उद्घाटन किया। इस दौरान उन्होंने रिसर्च यूनिट का अवलोकन कर उपकरणों और अनुसंधान प्रक्रिया की जानकारी ली। सिंहदेव ने कहा कि एमआरयू की सुविधा शुरू हो जाने से स्थानीय स्तर पर होने वाली कई नई बीमारियों पर रिसर्च करना आसान हो जाएगा और राज्य में अनुसंधान को प्रोत्साहन मिलेगा। इस अवसर पर रायपुर विधायकगण   कुलदीप जुनेजा, विकास उपाध्याय, सचिव स्वास्थ्य श्रीमती निहारिका बारिक सिंह सहित बड़ी संख्या में स्वास्थ्य विभग के अधिकारी कर्मचारी उपस्थित थे।
रिसर्च लैब को केन्द्र सरकार के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय, स्वास्थ्य अनुसंधान विभाग तथा छ.ग. शासन द्वारा संयुक्त रूप से स्थापित किया गया है। यह अम्बेडकर अस्पताल के ओ.पी.डी. बिल्डिंग में टेलीमेडिसीन हाल के ऊपर द्वितीय तल में स्थित है। रिसर्च यूनिट में बीमारियों के फैलने के कारणों एवं उनके उपचार की कारगर दवा का पता लगाने के लिए अनुसंधान किया जाएगा, इससे उपचार की सही व सटीक जानकारी मिल सकेगी। इसके साथ ही यहां दूसरे मेडिकल कॉलेजों के डॉक्टर भी गैर संचारी रोगों (एन.सी.डी.) के फैलने के कारण व उनके उपचार की सही दिशा व नियंत्रण पर शोध कर सकेंगे।
मल्टी-डिसिप्लिनरी रिसर्च यूनिट के उद्देश्य
एमआरयू का उद्देश्य मेडिकल कॉलेजों में अनुसंधान के माहौल को प्रोत्साहित और मजबूत करना, स्वास्थ्य को बेहतर बनाने की दृष्टि से बहु-विषयक अनुसंधान सुविधाओं को स्थापित करने में सहायता करना तथा स्वास्थ्य की समग्र स्थिति जैसे- जांच की प्रक्रिया, निदान के तरीके में सुधार करना है। रिसर्च के व्यापक उद्देश्य के साथ स्थापित एमआरयू में वर्तमान में आणविक जीव विज्ञान, कोशिका जीव विज्ञान, नए नैदानिक विकास व दवा की खोज जैसी अनुसंधानात्मक सुविधाएं उपलब्ध हैं। वर्तमान में एमआरयू के वैज्ञानिकों व शोधार्थियों द्वारा मुंह के कैंसर की शुरूआत अवस्था में पता लगाकर रोकथाम के उपाय, गर्भाशय के कैंसर में एच. पी. वी. वायरस की भूमिका व प्रबंधन तथा दूरस्थ क्षेत्रों में सिकल सेल एनीमिया की स्क्रीनिंग इत्यादि विषयों पर शोध किये जा रहे हैं।

No comments

Powered by Blogger.