बुधवार, 2 अक्तूबर 2019

,

प्रदेश भर में मनाई गई महात्मा गांधी की 150वीं जयंती



  • महात्मा गांधी के संदेश और आदर्श के आधार पर छत्तीसगढ़ और देश का निर्माण करना है: बघेल

  • छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर की सड़कों पर पदयात्रा पर निकले हजारों गांधी

रायपुर। राष्ट्रपिता महात्मा गांधी (Father of Nation Mahatma Gandhi) के 150वीं जयंती के अवसर पर आज सुबह रायपुर के जयस्तंभ चौक से गांधी मैदान तक 'बच्चा-बच्चा गांधी की थीम पर पदयात्रा निकाली गई। इस पदयात्रा में हजारों की संख्या में नन्हें बच्चों ने महात्मा गांधी (Mahatma Gandhi) की वेशभूषा धारण कर पदयात्रा की अगवाई की। इन बच्चों के साथ प्रदेश के मुख्यमंत्री (CM) भूपेश बघेल (Bhupesh Baghel) , राज्य सभा सांसद पी.एल. पुनिया (P.L. Punia), विधायक सर्व मोहन मरकाम (Mohan Markam), कुलदीप जुनेजा (Kuldeep Juneja), महापौर प्रमोद दुबे (Pramod Dubey) सहित बड़ी संख्या में जनप्रतिनिधिगण, नागरिक और अधिकारी-कर्मचारियों ने उनके साथ पदयात्रा में भाग लिया।
पदयात्रा रायपुर के जयस्तंभ चौक से प्रारंभ होकर ऐतिहासिक गांधी मैदान में सामाप्त हुई। यहां आयोजित सभा को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री बघेल ने कहा कि वर्ष 1933 में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी ने छत्तीसगढ़ के इसी ऐतिहासिक मैदान में आम-सभा की थी। आज छत्तीसगढ़ का बच्चा-बच्चा उन्हीं के पदचिन्हों पर धोती, लाठी और टोपी पहनकर उनका अनुसरण करते हुए उपस्थित है। इसके पहले जयस्तंभ चौक में मुख्यमंत्री (CM) ने महात्मा गांधी बने इन बच्चों का स्वागत किया और कहा कि हजारों की संख्या में बच्चों का महात्मा गांधी (Mahatma Gandhi) का वेशभूषा पहनकर आना एक अभिनव कार्य है। उन्होंने कहा महात्मा गांधी ने सत्य, अहिंसा सहित जो संदेश दिए हैं, उस पर चलकर हमें छत्तीसगढ़ और देश का निर्माण करना है। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने प्लास्टिक का उपयोग कम करने की दृष्टि से कपड़े के थैले का वितरण भी किया।
 
  सांसद पुनिया ने कहा कि छत्तीसगढ़ के बच्चों को महात्मा गांधी की वेशभूषा में देखकर अच्छा लग रहा है। महात्मा गांधी का सपना तभी पूरा होगा जब हम सत्य और अहिंसा पर आधारित समाज का निर्माण करेंगे। केवल देश ही नहीं बल्कि अनेक अन्र्तराष्ट्रीय आंदोलनों ने अपने अन्याय और भेदभाव के विरूध्द महात्मा गांधी के सिध्दांतों और आर्दशों से प्रेरणा ली। छत्तीसगढ़ शासन महात्मा गांधी के आदर्शों के अनुरूप आगे बढ़ रहा है।

  • नन्हें मूकबधिर बालक हनी को मुख्यमंत्री ने गोद में उठाया

 मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने जयस्तंभ चौक में महात्मा गांधी की वेशभूषा धारण किए हुए नन्हें मूकबधिर बालक हनी को अपनी गोद में उठा लिया। मुख्यमंत्री ने मूकबधिर स्कूल कोपलवाणी में कक्षा पहली मेें पढऩे वाले इस बालक को काफी देर तक अपनी गोद में रखा और उसे आशीर्वाद दिया। मुख्यमंत्री ने सभी बच्चों के उज्जवल भविष्य कामना की।
    पदयात्रा के अंतर्गत मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने महात्मा गांधी के मूर्ति पर पुष्प अर्पण किया।  मुख्यमंत्री ने यहां जनप्रतिनिधियों, नागरिकों, अधिकारियों और बच्चों के साथ बापू के प्रिय भजन 'वैष्णव जन तो तेने कहिऐ जे, पीड़ परायी जाणे रेÓ का श्रवण किया। इस अवसर पर रायपुर संभाग के कमिश्नर जी.आर चुरेन्द्र, कलेक्टर डॉ. एस. भारतीदासन, जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी गौरव कुमार सिंह, नगर निगम कमिश्नर शिव अंनत तायल भी पदयात्रा में शामिल हुए। 
    उल्लेखनीय है कि इस रैली में दो दर्जन से अधिक स्कूलों के हजारों बच्चे महात्मा गांधी बनकर पदयात्रा में शामिल हुए। मुख्यमंत्री के साथ इन बच्चों ने जगह-जगह भारत माता और महात्मा गांधी के जयकार के नारे लगाए और तख्ती लगाकर महात्मा गांधी का संदेश जन-जन को दिया।

0 comments:

टिप्पणी पोस्ट करें

Top Ad 728x90