Your Ads Here

भारी करों की मार के चलते आटो मोबाइल सेक्टर में छाई मंदी


  • पुराने वाहनों से ही लोग चला रहे हैं काम 
  • अवधि खत्म होने के बाद भी कंडम वाहन दौड़ रहे 

रायपुर । देश की अर्थव्यवस्था में जीडीपी दर में लगातार गिरावट के चलते जहां अनेक औद्योगिक समूह इन दिनों आर्थिक परेशानियों से जूझ रहे हैं। वहीं आटो मोबाइल सेक्टर में आई मंदी के चलते नए दोपहिया एवं चौपहिया वाहनों को बिक्री के लिए इंतजार करना पड़ रहा है। नए मोटरयान अधिनियम में हाल ही में 1988 के एक्ट में परिवर्तन से जहां जुर्माने की राशि में वृद्धि हुई है वहीं पंजीयन शुल्क,बीमा, रोड टैक्स आदि में वृद्धि के चलते इच्छा होते हुए भी लोग नए वाहन खरीदने से कतरा रहे हैं। ऑटो मोबाइल सेक्टर से मिली जानकारी के अनुसार विभिन्न प्रकार के ऑफर में छूट देने के बाद भी बाजार में मंदी का असर बरकरार है। टैक्स में अचानक 8-10 हजार की वृद्धि के चलते अवधि खत्म हुए वाहन भी सड़कों पर दौड़ रहे हैं। ज्ञातव्य है कि चारपहिया एवं दोपहिया वाहन अवधि समाप्त होने के बाद भी सड़कों पर दौड़ रहे हैं। कालातीत वाहनों के सड़कों पर दौडऩे से प्रदूषण में वृद्धि देखी जा रही है। पुराने वाहनों की जांच पड़ताल करने वाला अमला उक्त मामले को लेकर उदासीन है। केंद्र सरकार द्वारा गाडिय़ों की कीमतों में एवं विभिन्न प्रकार के दस्तावेजों में लग रहे करों में कमी आने से ही ऑटो मोबाइल सेक्टर की अर्थदशा में सुधार हो सकता है।  

No comments

Powered by Blogger.