Your Ads Here

एके-203 असॉल्ट राइफलों से लैस होगी भारतीय सेना


नई दिल्ली । युद्ध क्षेत्र में दुश्मनों के छक्के छुड़ाने वाली भारतीय सेना के तूणीर में अब एके-203 राइफल शामिल होने वाली है। यह राइफल जम्मू-कश्मीर में एंटी टेररिस्ट ऑपरेशन में शामिल जवानों को दी जाएगी। कार्बाइन रोल में एके-203 असॉल्ट राइफल का यह उन्नत संस्करण हैं। इसके साथ ही इसमें कुछ बदलाव किए जा रहे हैं, ताकि इसे मुश्किल हालात में छोटा करके कार्बाइन की तरह इस्तेमाल किया जा सके और कपड़ों में छिपाया जा सके। देश के सुरक्षाबलों को जल्द ही अत्याधुनिक असलहों की सप्लाई का काम शुरू कर दिया जाएगा।
भारत सरकार रूस के साथ मिलकर अब एके सीरीज की सबसे हाइटेक राइफल एके-203 का निर्माण शुरू कराएगी, जिसे भविष्य में भारतीय सेना को दिया जाएगा। एके-47 की तरह यह राइफल भी एक मिनट में 600 राउंड फायर करेगी। लेकिन इसकी मारक क्षमता 350 मीटर के बजाय 500 मीटर होगी। चीन समेत 30 देशों में बन रही इस राइफल की गिनती दुनिया के सबसे खतरनाक हथियारों में होती है। रिपोर्ट के अनुसार सेना के उच्च सूत्रों के हवाले से जानकारी दी है कि, हम अपने जवानों को अब एके 203 राइफलों से लैस करने जा रहे है। अब हम आतंकवाद रोधी अभियानों के दौरान इस राइफल की बट को आसानी से हटा सकते हैं जिससे इसे कपड़ों के बीच में छिपा सकते हैं।
सेना में इस राइफल के इस्तेमाल के लिए इसमें कई और बदलाव किए जाएंगे। बता दें कि सेना और सुरक्षाबलों के आधिकारिक सूत्रों ने बताया था कि 'एके-203 राइफल उस इंसास राइफल की जगह लेगी, जिसका इस्तेमाल थल सेना और अन्य बल कर रहे हैं। इस इकाई में 7,00,000 एके-203 राइफलें तैयार करने का शुरुआती लक्ष्य है। एके-203 राइफल एके-47 राइफलों का सबसे मॉडर्न वर्जन है। नई असॉल्ट राइफल भी एके-47 की तरह ऑटोमैटिक और सेमी ऑटोमैटिक दोनों सिस्टमों से लैस होगी।
गौरतलब है कि कुछ दिन पहले ही प्रधानमंत्री मोदी ने एके-203 असॉल्ट राइफल के लिए अमेठी में एक विनिर्माण इकाई की आधारशिला रखी थी। इस दौरान रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने रूसी राष्ट्रपति का का संदेश भी पढ़ा था। रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने अपने एक संदेश में कहा है कि 'क्लाशनिकोव असॉल्ट राइफल-203 तैयार करने वाला भारत और रूस का नया संयुक्त उद्यम छोटे हथियारों की भारतीय सुरक्षा एजेंसियों की जरूरत को पूरा करेगा।  

No comments

Powered by Blogger.