Your Ads Here

बाबा गुरूघासीदास ने पूरे मानव समाज को एक सूत्र में पिरोने का प्रयास किया : मुख्यमंत्री बघेल


  • मुख्यमंत्री  भूपेश बघेल ग्राम कसही एवं औसर में आयोजित गुरू घासीदास जयंती कार्यक्रम में शामिल हुए 
रायपुर। मुख्यमंत्री   भूपेश बघेल कल रविवार को दुर्ग जिले के पाटन विकासखण्ड के ग्राम पंचायत कसही और ग्राम औसर में आयोजित गुरू घासीदास जयंती समारोह में शामिल हुए। उन्होंने श्वेत ध्वज के साथ जैतखाम की परिक्रमा कर पूजा-अर्चना की और राज्य की सुख समृद्धि की कामना की। श्री बघेल ने इस अवसर पर कहा कि बाबा गुरू घासीदास ने मनखे-मनखे एक समान का संदेश देकर पूरे मानव समाज को एक सूत्र में पिरोने का प्रयास किया। उन्होंने जातिविहीन समाज की परिकल्पना करके सामाजिक समरसता को बढ़ावा दिया। बाबा गुरू घासीदास का यह संदेश सभी समाजों के लिए अनुकरणीय है। उन्होंने छत्तीसगढ़ी भाषा में अपने संदेश दिए इसका प्रमाण पंथी गीतों में मिलता है। इस अवसर पर आयोजकों ने मुख्यमंत्री श्री बघेल का स्वागत करते हुए मुख्यमंत्री निर्वाचित होने पर उन्हें बधाई और शुभकामनाएं दी।
मुख्यमंत्री श्री बघेल ने गुरू घासीदास जयंती समारोह को संबोधित करते हुए कहा कि संत किसी एक समाज के नही पूरे मानव समाज के होते हैं। बाबा गुरू घासीदास का संदेश सभी समाजों के लिए प्रेरणादायक और अनुकरणीय है। उन्होंने कहा कि संत शिरोमणि परम पूज्य बाबा गुरू घासीदास की जयंती 18 दिसंबर को गुरू पर्व के रूप में मनायी जाती है और यह पर्व 31 दिसंबर तक प्रदेश में श्रद्धा-भक्ति और हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है। श्री बघेल ने कहा कि यह समाज का बड़प्पन है कि सतनामी समाज गुरू घासीदास जयंती के कार्यक्रमों में अन्य समाज के लोगों को आमंत्रित कर मुख्य अतिथि के रूप में सम्मानित करता है। उन्होंने कहा कि बाबा गुरू घासीदास ने लोगों को सच्चाई के रास्ते पर चलाना सिखाया है। गुरू घासीदास ने सत्य, अहिंसा का मार्ग दिखाया है।

उन्होंने कहा कि बाबा गुरू घासीदास के बताये मार्ग पर चलकर हम सब छत्तीसगढ़ को और अधिक विकसित राज्य बनायेंगे। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने मात्र 10 दिनों के भीतर किसानों की कर्ज माफ का ऐतिहासिक निर्णय लिया। इस निर्णय से किसानों के चेहरों में नयी मुस्कान आयी है। अब किसान भाई नये उत्साह और नई उमंग से खेती-किसानी का कार्य करेंगे। इसी तरह राज्य में धान की खरीदी 2500 रूपये प्रति क्विंटल की दर से करने का फैसला भी राज्य सरकार ने किया है। मुख्यमंत्री श्री बघेल ने कहा कि सिंचाई बांधों में पानी होने पर गर्मी की फसल के लिए किसानों को पानी दिया जाएगा। मवेशियों के लिए चारे की भी व्यवस्था होगी। मुख्यमंत्री श्री बघेल ने ग्राम कसही में ग्रामीणों की मांग पर नहर-नाली विस्तारीकरण एवं नहर सुधार कराने का भरोसा दिलाया। इन दोनों गांवों में स्थानीय जनप्रतिनिधि और ग्रामीण बड़ी संख्या में उपस्थित थे।

No comments

Powered by Blogger.