एक सौ पन्द्रह स्थानों पर सीधा जबकि करीब सत्तर जगहों पर त्रिकोणीय मुकाबला


जयपुर । राजस्थान विधानसभान चुनाव में मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के झालरापाटन, पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के सरदारपुरा एवं प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सचिन पायलट के टोंक विधानसभा क्षेत्र सहित राज्य की करीब एक सौ पन्द्रह सीटों पर सीधा तथा करीब सत्तर स्थानों पर त्रिकोणीय जबकि एक दर्जन से अधिक स्थानों पर चतुष्कोणीय चुनावी मुकाबला नजर आने लगा हैं।
हालांकि सिरोही जिले के पिण्डवाड़ा आबू विधानसभा क्षेत्र में निर्दलीयों एवं शिवसेना प्रत्याशी के चुनाव मैदान में दमखम दिखाने से वहां सत्तारुढ़ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) एवं प्रमुख विपक्ष कांग्रेस प्रत्याशियों सहित पांच उम्मीदवारों में चुनावी मुकाबला होने के आसार हैं जबकि गंगानगर विधानसभा क्षेत्र में भाजपा एवं कांग्रेस के अलावा चार बार विधायक रहे पूर्व मंत्री राधेश्याम के निर्दलीय, बागी राजकुमार गौड़ एवं जयदीप बियाणी एवं बहुजन समाज पार्टी (बसपा) प्रत्याशी प्रहलाद टाक तथा मौजूदा विधायक जमीदारा पार्टी की कामिनी जिंदल चुनाव मैदान में होने से यहां सात उम्मीदवारों में बराबरी का मुकाबला बनता जा रहा हैं।
सात दिसम्बर को विधानसभा की दो सौ में से 199 सीटों पर होने वाले चुनाव में भाजपा ने सभी सीटों पर, कांग्रेस ने 195 एवं बहुजन समाज पार्टी (बसपा) तथा अन्य दलों एवं निर्दलीयों सहित कुल 2274 उम्मीदवार चुनाव मैदान में अपना भाग्य आजमा रहे हैं। उल्लेखनीय है कि अलवर जिले के रामगढ़ विधानसभा क्षेत्र से बसपा उम्मीदवार लक्ष्मण सिंह के आकस्मिक निधन से वहां चुनाव स्थगित हो चुका हैं।
श्रीमती राजे का झालावाड़ जिले की झालरापाटन विधानसभा क्षेत्र से भाजपा छोड़कर कांग्रेस में आये विधायक मानवेन्द्र सिंह से सीधा मुकाबला हैं। हालांकि श्रीमती राजे के दो बार मुख्यमंत्री बनने तथा इस क्षेत्र धौलपुर के बाद वर्ष 2003 से लगातार यहां से विधायक चुनने से उनकी स्थिति काफी मजबूत मानी जा रही हैं।
इसी तरह दो बार मुख्यमंत्री रह चुके श्री गहलोत जोधपुर जिले की सरदारपुरा विधानसभा क्षेत्र में मजबूत स्थिति में हैं और उनका मुकाबला पिछली बार उनके सामने चुनाव हार चुके भाजपा प्रत्याशी शंभू सिंह खेतासर से हैं जबकि श्री पायलट का टोंक विधानसभा क्षेत्र में राज्य के सार्वजनिक निर्माण मंत्री यूनुस खान से सीधा चुनावी मुकाबला हैं। श्री खान भाजपा का एक मात्र मुस्लिम प्रत्याशी हैं।
वर्ष 2008 में एक वोट से हारने वाले पूर्व केन्द्रीय मंत्री कांग्रेस प्रत्याशी डा सी पी जोशी का इस बार नाथद्वारा सीट से हाल में कांग्रेस से भाजपा में आये महेश प्रताप सिंह से सीधा मुकाबला हैं। इसी तरह पांच बार विधायक चुनी गई भाजपा की वरिष्ठ नेता सूर्यकांता व्यास सूरसागर विधानसभा क्षेत्र में कांग्रेस प्रत्याशी प्रो अयूब खान, पंयाचत राज मंत्री राजेन्द्र राठौड़ का मुकाबला कांग्रेस प्रत्याशी रफीक मंडेलिया से, अंता से कृषि मंत्री प्रभु लाल सैनी का पूर्व मंत्री कांग्रेस प्रत्याशी प्रमोद जैन, कोटा उत्तर से पूर्व गृह मंत्री कांग्रेस प्रत्याशी शांति धारीवाल का भाजपा प्रत्याशी विधायक प्रहलाद गुंजल तथा कोलायत विधानसभा क्षेत्र में विधानसभा में प्रतिपक्ष नेता रामेश्वर डूडी की पिछले चुनाव में बागी रहे भाजपा प्रत्याशी बिहारी लाल विश्नोई से सीधी चुनावी टक्कर होने के आसार हैं।