बस्तर में तेजी से बढ़ रहे एड्स के खौफनाक विषाणु


  •  इस साल मिले 218 मरीज, बस्तर में कुल 1300 पीडि़त
जगदलपुर । अवैध संबंधों और बाहर से आने वाले परदेशियों के यहां पर अवैध संबंध स्थापित करने से प्रतिवर्ष सैकड़ों की संख्या में खतरनाक योन रोग एड्स के मरीजों की संख्या बढ़ती ही जा रही है और इस वर्ष बस्तर जिले में 218 एड्स मरीजों की संख्या अभी तक पाई गई है। इसके साथ ही सर्वाधिक उल्लेखनीय तथ्य है कि महिलाओं में भी एड्स का प्रकोप लगातार बढ़ रहा है। बाहर से आने वाले एड्स मरीज यहां पर जब अपना संबंध यहां के रहवासियों से करते हैं, तो वे अपने साथ-साथ सामने वाले को भी एड्स की बीमारी का शिकार बना देते हैं। 
उल्लेखनीय है कि इस संबंध में जिला एड्स नियंत्रण समिति का कहना है कि पिछले 15 साल में बस्तर में 1300 से अधिक एड्स पीडि़त मरीज पाये गये हैं। यह भी सर्वाधिक चौकाने वाला तथ्य है कि बस्तर के दक्षिणी हिस्से दंतेवाड़ा जिले में स्थित लौह खदान परियोजना क्षेत्र में मरीजों की संख्या अधिक पाई गई है। इसके साथ ही स्थानीय कुछ गांव जिनमें पंडरीपानी व अन्य गांव आते हैं के साथ गीदम में भी एड्स के मरीज मिले हैं। इस प्रकार यह भयानक बीमारी एचआईवी पीडि़त एड्स मरीजों की संख्या एड्स नियंत्रण कार्यक्रम तथा लोगों को अवैध यौन संबंध के दुष्परिणाम देने की जानकारी के बाद भी बढऩा खतरे का संकेत हैं और बस्तर के ग्रामीण क्षेत्रों में भी इसका पाया जाना खतरनाक स्थिति को प्रदर्शित कर रहा है।