CJI गोगोई की वकीलों से भी कम है संपत्ति, ना कार है ना बंगला

PunjabKesari

1978 में की थी वकालत की शुरुआत
  • न्यायमूर्ति गोगोई ने 1978 में गुवाहाटी हाईकोर्ट से अपनी वकालत शुरू की थी। 
  • गुवाहाटी उच्च न्यायालय में संवैधानिक, कराधान और कंपनी मामलों में वकालत की। 
  • 28 फरवरी, 2001 को उन्हे गुवाहाटी उच्च न्यायालय का स्थायी न्यायाधीश नियुक्त किया गया था। 
  • 9 सितंबर, 2010 को उनका तबादला पंजाब एवं हरियाणा उच्च न्यायालय में हो गया।
  • 12 फरवरी, 2011 को पंजाब एवं हरियाणा उच्च न्यायालय का मुख्य न्यायाधीश नियुक्त किया गया था। 
  • 23 अप्रैल, 2012 को सर्वोच्च न्यायालय का न्यायाधीश नियुक्त किया गया।
  • दिपक मिश्रा ने न्यायमूर्ति गोगोई के नाम की सिफारिश अपने उत्तराधिकारी के तौर पर की थी।
    PunjabKesari

सीजेआई गोगोई के पास नहीं है खुद की कार 
  • सीजेआई गोगोई के पास सोने की एक भी जूलरी नहीं है,
  • जस्टिस गोगोई के पास अपनी कोई व्यक्तिगत गाड़ी नहीं है। 
  • एलआईसी पॉलिसी समेत गोगोई और उनकी पत्नी के पास कुल मिलाकर 30 लाख रुपये बैंक बैलेंस है। 
  • जस्टिस का शेयर बाजार में भी कोई निवेश नहीं है।
  • गोगोई न कोई लोन लिया है और न ही किसी तरह की देनदारी है।
PunjabKesari
गोगोई के अहम फैसले 
  • देश की राजनीति में हचलच मचाने वाले असम एनआरसी का फैसला सुनाने वाले जजों में जस्टिस रंजन गोगोई भी शामिल थे। 
  • जेएनयू के पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार के मामले में जस्टिस गोगोई ने ही एसआईटी के गठन से इंकार किया था।
  • गोगोई लोकसभा, राज्यसभा, विधानसभा और विधान परिषद के प्रत्याशियों के लिए संपत्ति, शिक्षा और उनके खिलाफ चल रहे केसों का विवरण अनिवार्य करने वाली बेंच में भी शामिल थे।
  • जस्टिस ने ही अनुसूचित जाति के व्यक्ति को दूसरे राज्य में आरक्षण का लाभ नहीं दिए जाने का फैसला सुनाया था।
  • केंद्रीय सेवाओं में जाटों को अन्य पिछड़ा वर्ग के दायरे से बाहर करने वाली बेंच में भी जस्टिस गोगोई थे। 
  • जस्टिस रंजन गोगोई ने ही सौम्या मर्डर मामले में ब्लॉग लिखने पर सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज मार्कंडेय काटजू को कोर्ट में तलब किया था।
  • कोलकाता हाईकोर्ट के जज जस्टिस कर्णन को 6 महीने की सजा सुनाने वाली पीठ में भी जस्टिस गोगोई शामिल थे।
  • सांसदों और विधायकों के खिलाफ लंबित मामलों की सुनवाई के लिए हर राज्य में विशेष कोर्ट के गठन का आदेश देने वाली पीठ में जस्टिस गोगोई शामिल थे।