नये छत्तीसगढ़ के निर्माण में युवाओं की अहम भूमिका: डॉ. रमन सिंह




मुख्यमंत्री ने नवा छत्तीसगढ़ 2025 के निर्माण के संबंध में युवाओं से की चर्चा, लिए उनके सुझाव

डॉ. सिंह ने प्रतिभाशाली युवाओं और विभिन्न क्षेत्रों में उल्लेखनीय कार्य करने वालों को किया सम्मानित

रायपुर । मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कहा है कि आज के युवा ही कल समाज और प्रदेश को नेतृत्व प्रदान करेंगे। प्रदेश के युवाओं का जोश और ऊर्जा नवा छत्तीसगढ़ के निर्माण में अहम भूमिका निभाएगी। मुख्यमंत्री डॉ. सिंह आज यहां राष्ट्रपिता महात्मा गांधी और पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय श्री लाल बहादुर शास्त्री के जयंती के अवसर पर युवा संवाद और प्रतिभा सम्मान समारोह को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने दीप प्रज्ज्वलित कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया। यह कार्यक्रम पं. जवाहर लाल नेहरू मेडिकल कॉलेज परिसर स्थित अटल बिहारी बाजपेयी आटिडोरियम में आयोजित किया गया। मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर नवा छत्तीसगढ़ 2025 के निर्माण के संबंध में प्रदेश के युवाओं से चर्चा की और उनके सुझाव भी लिए। मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर प्रदेश के प्रतिभाशाली युवाओं और विभिन्न क्षेत्रों में उल्लेखनीय कार्य करने वाले युवाओं को प्रशस्ति पत्र प्रदान कर सम्मानित भी किया।

डॉ. सिंह ने कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि राज्य के निर्माण के समय छत्तीसगढ़ बीमारू राज्य की श्रेणी में था। छत्तीसगढ़ के निर्माता और पूर्व प्रधानमंत्री स्व. श्री अटल बिहारी बाजपेयी ने जिस कल्पना से छत्तीसगढ़ का निर्माण किया था, राज्य सरकार द्वारा पिछले 15 सालों की विकास यात्रा में इस दिशा में उठाए गए कारगर कदम से आज छत्तीसगढ़ विकसित राज्य की श्रेणी में आ खड़ा हुआ है। सन् 2025 में जब छत्तीसगढ़ अपनी स्थापना की रजत जयंती मना रहा होगा तब छत्तीसगढ़ कैसा होगा इसके लिए अटल दृष्टि पत्र बनाया गया है, साथ ही नवा छत्तीसगढ़ के निर्माण के लिए सभी वर्गो की सहभागिता सुनिश्चित करते हुए उनके सुझाव लिए जा रहे है। इसी कड़ी में आज यहां युवाओं से चर्चा हो रही है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि स्काई योजना के तहत प्रदेश के पांच लाख युवाओं को स्मार्टफोन प्रदान किया गया है। ये फोन सिर्फ बातचीत का जरिया नही है बल्कि इससे एक नए युग का सूत्रपात्र हुआ है। आज प्रदेश में हर तरफ सड़कों का जाल बिछ गया है, रेल्वे, वायुसेवा और संचार सुविधाओं का विस्तार हुआ है। छत्तीसगढ़ देश का पहला राज्य है जिसने अधिनियम बनाकर गरीब परिवारों को खाद्यान्न की सुरक्षा और युवाओं को कौशल विकास का अधिकार दिया है। प्रदेश के शतप्रतिशत परिवारों को स्वास्थ्य की सुरक्षा मुहैया करायी गई है। छत्तीसगढ़ पहला ऐसा राज्य है जहां आईआईटी, आईआईएम, ट्रिपल आईटी, एनआईटी, एम्स, नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी जैसे राष्ट्रीय स्तर के शैक्षणिक संस्थान है। अब यहां के बच्चों को बाहर पढ़ने जाने की जरूरत नही पड़ती है। आदिवासी बहुल और नक्सल हिंसा प्रभावित क्षेत्रों के बच्चे आज प्रयास विद्यालय के माध्यम से देश के प्रसिद्ध आईआईटी और एनआईटी में अपना भविष्य संवार रहे है। बालिकाओं को स्नातक तक निःशुल्क शिक्षा मुहैया कराने से महाविद्यालयों में छात्राओं के प्रतिशत में उल्लेखनीय वृद्धि हुई है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि युवा पीढ़ी के हाथों में ताकत होती है। नवा छत्तीसगढ़ के निर्माण में भी युुवाशक्ति की अहम भूमिका रहेगी। उनकी ऊर्जा और हुनर से 2025 में छत्तीसगढ़ को देश के प्रथम तीन राज्यों की श्रेणी में खड़ा होने से कोई नही रोक सकता है।

मुख्यमंत्री डॉ. सिंह सेे इस अवसर पर प्रदेश के विभिन्न जिलों से आए युवाओं ने उनके कार्यकाल, राज्य सरकार की योजनाएं, राजनैतिक जीवन, अटल दृष्टि पत्र और नवा छत्तीसगढ़ को लेकर सवाल भी पूछे जिसका मुख्यमंत्री ने बड़े ही सहृ्दता से जबाव दिया। मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर नवाचार प्रतियोगिता शाइनिंग यूथ- लाईट, कैमरा, एक्शन.. के वीडियो का भी विमोचन किया। इसके तहत प्रदेश के 750 महाविद्यालयों के प्रतिभागी छात्र सरकार की योजनाओं से लाभान्वित हितग्राहियों पर आधारित वीडियो बनाकर इस प्रतियोगिता की वेबसाइड में अपलोड करेंगे। प्रतिभागियों में विजेताओं को पुरस्कृत किया जाएगा। मुख्यमंत्री ने कार्यक्रम में यूथ फॉर एकात्मता प्रतियोगिता के विजेताओं को भी पुरस्कृत किया।

इस अवसर पर रायपुर लोकसभा क्षेत्र के सांसद श्री रमेश बैस, कृषि एवं जल संसाधन मंत्री श्री बृजमोहन अग्रवाल, रायपुर उत्तर के विधायक श्री श्रीचंद सुन्दरानी, छत्तीसगढ़ अपेक्स बैंक के अध्यक्ष श्री आशोक बजाज, कलेक्टर डॉ. बसवराजु एस., जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री दीपक सोनी, राज्य योजना आयोग के सदस्य श्री दानसिंह देवांगन और श्री संजय जोशी सहित बड़ी संख्या में युवा उपस्थित थे।