भूकंप-सुनामी का कहर जारी, 1,234 तक पहुंची मरने वालों की संख्या









जकार्ता । इंडोनेशिया में भूकंप का कहर लगातार जारी है। अमेरिकी भूगर्भीय सर्वेक्षण (यूएसजीएस) ने अभी कुछ ही समय पहले जानकारी दी कि सुंबा द्वीप के दक्षिणी तट पर मंगलवार सुबह में 5.9 तीव्रता का भूकंप आया। इंडोनेशिया सरकार ने आज बताया कि सुलावेसी द्वीप पर आए भूकंप तथा उसके बाद उठी सुनामी में मरने वालों की संख्या बढ़ कर 1,234 हो गई है। पहले यह संख्या 844 बताई गई थी। राष्ट्रीय आपदा एजेंसी के प्रवक्ता सुतोपो पुरवो नगरोहो ने बताया कि मंगलवार दोपहर एक बजे तक 1,234 लोग मारे गए हैं।’’


इस बीच मंगलवार को इंडोनेशियाई पुलिस ने बताया कि उन्होंने भूकंप और सुनामी प्रभावित सुलावेसी द्वीप पर लूटपाट करने वाले दर्जनों लोगों को गिरफ्तार किया है। यहां पर जीवित बचे लोगों ने पानी, खाना और अन्य वस्तुओं के लिए दुकानों में लूटपाट की है। उप राष्ट्रीय पुलिस प्रमुख आरी डोनो सुकमांटो ने बताया कि पहले और दूसरे दिन कोई दुकान नहीं खुली। लोग भूखे थे। लोगों को सामान की सख्त जरूरत थी। यह एक समस्या नहीं है।



मरने वालों का आंकड़ा 1234 तक पहुंचा

इंडोनेशिया में आए भूकंप और इससे पैदा हुई सुनामी की चपेट में आने से सुलावेसी द्वीप में मरने वालों का आंकड़ा 1234 तक पहुंच गया है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, सुनामी से सबसे ज्यादा प्रभावित पालू शहर में राहत और बचावकर्मियों के पहुंचने का सिलसिला अभी भी जारी है। इस आपदा में जिंदा बचे लोग मृतकों के शव बरामद करने में अधिकारियों की मदद कर रहे हैं। कुछ विदेशी नागरिक लापता हैं। लापता विदेशी नागरिकों में एक फ्रांस, एक साउथ कोरिया और कुछ दूसरे देशों के नागरिक हैं।




1300 शवों के लिए खोदी सामूहिक कब्र

इंडोनेशिया में भूकंप और सुनामी से मची तबाही से जहां सैकड़ों लोगों की मौत हो गई, वहीं हजारों लोग बेघर हो गए हैं। चारों ओर बर्बादी के मंजर नजर आ रहे हैं। सोमवार को सुलावेसी में स्वयंसेवकों ने एक हजार से अधिक शवों के लिए सामूहिक कब्र खोदी। आपदा के कारण मची तबाही से निपटने के लिए इंडोनेशियाई प्रशासन ने अंतरराष्ट्रीय सहयोग की गुहार लगाई है।



1200 कैदी प्राकृतिक आपदा का फायदा उठा भागे

दुनियाभर में जब इंडोनेशिया के लिए दुआ की जा रही है, करीब 1200 ऐसे लोग हैं जिन्हें इस प्राकृतिक आपदा का लाभ मिला है। दरअसल, भूकंप प्रभावित क्षेत्र की 3 जेलों से 1200 कैदी इस प्राकृतिक आपदा का फायदा उठाकर भाग गए हैं। न्यायिक मंत्रालय की तरफ से जारी बयान में इस आंकड़े की पुष्टि की गई है। भूकंप प्रभावित पालू के एक 120 कैदियों वाली जेल में क्षमता से अधिक 581 कैदी बंद थे। 7.4 की तीव्रता से आए भूकंप में जेल की दीवारें गिर गईं और कैदियों ने इस मौके का फायदा उठाया। अफरा-तफरी के माहौल का फायदा उठाकर कैदी जेल की टूटी दीवार के जरिए गार्ड को चकमा देकर भागने में सफल रहे।


npnews.co.in