गुरुवार, 28 मई 2020

दूर-दराज के छात्रों को ऑनलाइन शिक्षा में कोई दिक्कत नहीं होगी : निशंक


नई दिल्ली। केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री डॉ रमेश पोखरियाल निशंक ने कहा है कि कोरोना महामरी के कारण लॉकडाउन के दौरान देश के दूर दूर दराज इलाके में रहने वाले छात्रों कोऑनलाइन शिक्षा में कोई दिक्कत नही होगी क्योंकि उन्हें टेलीविजन और रेडियो के माध्यम से भी पढ़ाई की सुविधा दी जाएगी।
डा. निशंक ने गुरुवार को यहां देश के 45 हज़ार डिग्री कालेज के प्रमुखों और शिक्षकों तथा एक हज़ार विश्विद्यालय के कुलपतियों को वेबिनार से सम्बोधित करते हुए यह बात कही। इस वेबिनार का आयोजन नैक ने किया था और इसमें इसके अध्यक्ष वी एस चौहान, और विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) के अध्यक्ष डी पी सिंह ने भी हिस्सा लिया। डॉ निशंक ने कहा कि हमने ऑनलाइन शिक्षा को काफी मजबूत बनाया है और स्वयम्प्रभा चैनल दुनिया का सबसे बड़ा शिक्षा प्लेटफार्म बन गया है। दीक्षा और ई-पाठशाला जैसे प्लेटफार्म हैं ही। लेकिन इसके बाद भी दूर दराज इलाके में रहनेवाले छात्रों को नेट की समस्या है और मोबाइल नेटवर्क की समस्या है तो हमने दूरदर्शन से लेकर टाटा स्काई डिश टीवी और रिलायंस टीवी के जरिये उन छात्रों की पढ़ाई की व्यस्था कर रहे है और रेडियो के माध्यम से भी उन्हें शिक्षा प्रदान करेंगे।अंतिम छोर पर रहनेवाला कोई छात्र पढ़ाई से वंचित नही रहेगा। उन्होंने कहा कि पहले वर्ष के छात्रों को आंतरिक मूल्यांकन के आधार पर पास किया जाएगा जबकि दूसरे वर्ष के छात्रों को पहले वर्ष के रिजल्ट के 50 प्रतिशत और 50 प्रतिशत आंतरिक मूल्यांकन के आधार पर पास किया जाएगा। केवल तीसरे वर्ष के छात्रों के लिए परीक्षा होगी और सोशल डिस्टनसिंग का पालन किया जाएगा। उन्होंने कहा कि टास्क फोर्स ने अपनी रिपोर्ट दे दी है और उसकी सिफारिशों के आधार पर ये परीक्षएँ होंगी। उन्होंने बताया कि अगर किसी को कोई शिकायत हो तो वह यूजीसी के शिकायत प्रकोष्ठ से सम्पर्क करें और स्थिति न सुलझने पर मंत्रालय से सम्पर्क करें।

0 comments:

टिप्पणी पोस्ट करें

Top Ad 728x90